Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2016 · 1 min read

हमें जब अलविदा तुमने कहा है

हमें जब अलविदा तुमने कहा है
न जीने को हमारे कुछ बचा है

डरेंगे हम नहीं इन आँधियों से
भले ही हाथ में जलता दिया है

बनाया इश्क को कैसा खुदा ने
सितम ही आज तक इसने सहा है

बड़े हम पर लगें इल्जाम कितने
डिगी लेकिन नहीं अपनी वफ़ा है

कटेंगे पाप कैसे तीर्थ से भी
अगर माँ बाप से रहता जुदा है

हवाले मौत के करती सभी को
हमेशा ज़िन्दगी ने ही छला है

दुआयें ‘अर्चना’ सब माँगते हैं
सितारा जब गगन से टूटता है

डॉ अर्चना गुप्ता

1 Like · 3 Comments · 371 Views
You may also like:
हिकायत से लिखी अब तख्तियां अच्छी नहीं लगती।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
साथ आया हो जो एक फरिश्ता बनकर
कवि दीपक बवेजा
*कौए काले (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
सोच
kausikigupta315
उस वक़्त
shabina. Naaz
प्यार
विशाल शुक्ल
ऐ उम्र
Anamika Singh
अधूरी चाहत
Faza Saaz
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वाणी की देवी वीणापाणी और उनके श्री विगृह का मूक...
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
" जंगल की दुनिया "
Dr Meenu Poonia
“ स्वप्न मे भेंट भेलीह “ मिथिला माय “
DrLakshman Jha Parimal
आवत हिय हरषै नहीं नैनन नहीं स्नेह।
sheelasingh19544 Sheela Singh
तितली तेरे पंख
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
२४२. पर्व अनोखा
MSW Sunil SainiCENA
यथा प्रदीप्तं ज्वलनं.…..
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पैसों के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
अपनी आँखों से ........................................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
हिटलर की वापसी
Shekhar Chandra Mitra
✍️दो पंक्तिया✍️
'अशांत' शेखर
जंजीरों मे जकड़े लोगो
विनोद सिल्ला
राष्ट्रभाषा
Prakash Chandra
शिवाजी महाराज विदेशियों की दृष्टि में ?
Pravesh Shinde
मध्यप्रदेश पर कुण्डलियाँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
" चंद अश'आर " - काज़ीकीक़लम से
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
दिल ने किया था
Dr fauzia Naseem shad
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
लाशें बिखरी पड़ी हैं।(यूक्रेन पर लिखी गई ग़ज़ल)
Taj Mohammad
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
समझना तुझे है अगर जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...