Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

हमारे रक्षक

हम बेफिक्रे हुए सोते हैं,
अपने घरों मकानों में।
सैनिक गोली झेल रहे हैं,
बर्फीली चट्टानों में।।
प्यार मोहब्बत के किस्सों में,
जब हम खोए रहते हैं।
रक्त बहाकर भी वो अपना
फर्ज निभाते रहते हैं।।
भारत मां के उन वीरों की,
आंखों में एक सपना है।
हिंदू हो या मुस्लिम हो,
हर भारतवासी अपना है।।
दोनों ही के खातिर वो,
दुश्मन से टकरा जाते हैं।
भारत मां की गोदी में,
सीना ताने सो जाते हैं।।
सीना ताने सो जाते हैं।।

@करन केसरा

Language: Hindi
1 Like · 43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
मेरी साँसों से अपनी साँसों को - अंदाज़े बयाँ
मेरी साँसों से अपनी साँसों को - अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सब व्यस्त हैं जानवर और जातिवाद बचाने में
सब व्यस्त हैं जानवर और जातिवाद बचाने में
अर्चना मुकेश मेहता
जो घर जारै आपनो
जो घर जारै आपनो
Dr MusafiR BaithA
पलकों पे सपने लिए, लाँघे जब दहलीज।
पलकों पे सपने लिए, लाँघे जब दहलीज।
डॉ.सीमा अग्रवाल
" मुरादें पूरी "
DrLakshman Jha Parimal
सोच
सोच
Sûrëkhâ
कृष्ण भक्ति
कृष्ण भक्ति
लक्ष्मी सिंह
मेरा शरीर और मैं
मेरा शरीर और मैं
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बोलने को मिली ज़ुबां ही नहीं
बोलने को मिली ज़ुबां ही नहीं
Shweta Soni
किया विषपान फिर भी दिल, निरंतर श्याम कहता है (मुक्तक)
किया विषपान फिर भी दिल, निरंतर श्याम कहता है (मुक्तक)
Ravi Prakash
देशभक्ति पर दोहे
देशभक्ति पर दोहे
Dr Archana Gupta
मेरे भगवान
मेरे भगवान
Dr.Priya Soni Khare
"शतरंज"
Dr. Kishan tandon kranti
सोच
सोच
Shyam Sundar Subramanian
यह गलतफहमी कभी नहीं पालता कि,
यह गलतफहमी कभी नहीं पालता कि,
Jogendar singh
जीत हार का देख लो, बदला आज प्रकार।
जीत हार का देख लो, बदला आज प्रकार।
Arvind trivedi
आदि विद्रोही-स्पार्टकस
आदि विद्रोही-स्पार्टकस
Shekhar Chandra Mitra
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
Shravan singh
माँ महागौरी है नमन
माँ महागौरी है नमन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
दृष्टा
दृष्टा
Shashi Mahajan
मैं
मैं "लूनी" नही जो "रवि" का ताप न सह पाऊं
ruby kumari
ख्वाबो में मेरे इस तरह आया न करो
ख्वाबो में मेरे इस तरह आया न करो
Ram Krishan Rastogi
2898.*पूर्णिका*
2898.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सेवा या भ्रष्टाचार
सेवा या भ्रष्टाचार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ का आशीर्वाद पकयें
माँ का आशीर्वाद पकयें
Pratibha Pandey
,,,,,,
,,,,,,
शेखर सिंह
बीमार घर/ (नवगीत)
बीमार घर/ (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
प्रेरणा गीत
प्रेरणा गीत
Saraswati Bajpai
Loading...