Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2022 · 1 min read

हमारे बाबू जी (पिता जी)

सपने में आये थे भैया आज हमारे बाबू जी।
बालकनी से देते थे आवाज़ हमारे बाबूजी।

उम्र गुज़र जाने पर भी जो जान नहीं हम पा पाये,
खोल रहे थे सपने में वो राज़ हमारे बाबू जी।

अक्सर जिन कामों का हम एहसान जताया करते हैं,
बिना बताये करते थे वो काज हमारे बाबू जी।

सबको खुशियाँ देते थे वह सबसे खुशियाँ पाते थे,
नाज़ उठाये हम सबके, थे नाज़ हमारे बाबू जी।

सब पर सब कुछ होने पर भी सबकी पूर नहीं पड़ती,
ढकते थे ख़ुद सारे घर की लाज हमारे बाबू जी।

बचपन से ले मृत्यु तलक गुरबत में जीवन काटा था,
नहीं किसी के हुए मगर मुहताज हमारे बाबू जी।

काट सभी लेते हैं जीवन जो दुनिया में आये हैं,
सिखलाते थे जीने का अंदाज़ हमारे बाबू जी।
– रमेश ‘अधीर’
चन्दौसी ( उत्तर प्रदेश)
rc769325@gmail.com

7 Likes · 8 Comments · 250 Views
You may also like:
प्रेम
Vikas Sharma'Shivaaya'
एक प्यार ऐसा भी /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
व्यास पूर्णिमा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मार्मिक फोटो
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
पागल बना दे
Harshvardhan "आवारा"
A poor little girl
Buddha Prakash
प्रेम पर्दे के जाने """"""""""""""""""""""'''"""""""""""""""""""""""""""""""""
Varun Singh Gautam
वन्दे मातरम वन्दे मातरम
Swami Ganganiya
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित ,...
Subhash Singhai
तेरे हर एहसास को
Dr fauzia Naseem shad
# सुप्रभात .......
Chinta netam " मन "
मैं पीड़ाओं की भाषा हूं
Shiva Awasthi
*साठ वर्ष : सात दोहे*
Ravi Prakash
इम्तिहान की घड़ी
Aditya Raj
कैसी भी हो शराब।
Taj Mohammad
युवकों का निर्माण चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ए- वृहत् महामारी गरीबी
AMRESH KUMAR VERMA
बगिया का गुलाब प्यारा...
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
इंतज़ार
Alok Saxena
" सहमी कविता "
DrLakshman Jha Parimal
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
पिता
Deepali Kalra
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सामाजिक न्याय
Shekhar Chandra Mitra
जितना सताना हो,सता लो हमे तुम
Ram Krishan Rastogi
Advice
Shyam Sundar Subramanian
✍️ अपने रिश्ते ही कुछ ऐसे है
'अशांत' शेखर
जिंदगी फिर भी हंसीन
shabina. Naaz
इस कहानी को नया इक मोड़ दूँ क्या
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...