Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2017 · 1 min read

** हमारी शुभकामनाऐ ***

ना दुखी हो इतना तूं
शुक्र मना………….
पांव ही दबवा रही है
नानुकर मत करना
वरना ……..
गला दबाने में देर
नहीं करने वाली है ।
चाहत को
दिल में दबाये जा
रो मत
कम से कम मर्द है
लोग हँसेंगे तुम्हे देखकर
चुपचाप पांव दबाये जा
जा हमारी शुभकामनाऐ
सदा तुम्हारे साथ है ।।

?मधुप बैरागी

Language: Hindi
1 Like · 184 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from भूरचन्द जयपाल
View all
You may also like:
अब मेरी मजबूरी देखो
अब मेरी मजबूरी देखो
VINOD CHAUHAN
इतिहास गवाह है
इतिहास गवाह है
शेखर सिंह
ग़रीब
ग़रीब
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
एक दिन मजदूरी को, देते हो खैरात।
एक दिन मजदूरी को, देते हो खैरात।
Manoj Mahato
3227.*पूर्णिका*
3227.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
संवेदना
संवेदना
Neeraj Agarwal
“कवि की कविता”
“कवि की कविता”
DrLakshman Jha Parimal
बहुत देखें हैं..
बहुत देखें हैं..
Srishty Bansal
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
#लानत_के_साथ...
#लानत_के_साथ...
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
प्रकट भये दीन दयाला
प्रकट भये दीन दयाला
Bodhisatva kastooriya
"जोकर"
Dr. Kishan tandon kranti
* उपहार *
* उपहार *
surenderpal vaidya
बड़ा हिज्र -हिज्र करता है तू ,
बड़ा हिज्र -हिज्र करता है तू ,
Rohit yadav
पूस की रात।
पूस की रात।
Anil Mishra Prahari
चांद छुपा बादल में
चांद छुपा बादल में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
'मजदूर'
'मजदूर'
Godambari Negi
हम सुधरेंगे तो जग सुधरेगा
हम सुधरेंगे तो जग सुधरेगा
Sanjay ' शून्य'
डर डर के उड़ रहे पंछी
डर डर के उड़ रहे पंछी
डॉ. शिव लहरी
चंद आंसूओं से भी रौशन होती हैं ये सारी जमीं,
चंद आंसूओं से भी रौशन होती हैं ये सारी जमीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
प्रकृति
प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
gurudeenverma198
मुझे बिखरने मत देना
मुझे बिखरने मत देना
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
माँ सच्ची संवेदना...
माँ सच्ची संवेदना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"यायावरी" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
एक बछड़े को देखकर
एक बछड़े को देखकर
Punam Pande
आज अचानक फिर वही,
आज अचानक फिर वही,
sushil sarna
*वरमाला वधु हाथ में, मन में अति उल्लास (कुंडलियां)*
*वरमाला वधु हाथ में, मन में अति उल्लास (कुंडलियां)*
Ravi Prakash
Loading...