Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 1 min read

हमारी रूह ले गए हो।

जिन्दगी भर का चैन ओ सुकूं ले गए हो।
बेजान करके जिस्म से हमारी रूह ले गए हो।।1।।

तड़पता छोड़ कर दिल तोड़ कर गए हो।
नफरतों का इश्क तुम हमसे खूब कर गए हो।।2।।

हंसते मुस्कुराते थे हम हर वक्त सभी से।
छांव थी जिन्दगी हमारी तुम धूप कर गए हो।।3।।

यतीम समझकर सबने ही ठुकरा दिया।
तुम भी अपना बना कर हमसे दूर हो गए हो।।4।।

तुम्हारी इंसानियत पर ही हम फिदा थे।
दौलत पाके तुम भी खुदमें मगरुर हो गए हो।।5।।

दोनों ही साथ निकले थे तिज़ारत पर।
हम रह गए वहीं और तुम मशहूर हो गए हो।।6।।

हम वफ़ा करके भी बेवफ़ा कहलाए।
तुम कांटों जैसे चुभकर भी फूल बन गए हो।।7।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
International Chess Day
International Chess Day
Tushar Jagawat
नजरिया रिश्तों का
नजरिया रिश्तों का
विजय कुमार अग्रवाल
*सावन-भादो दो नहीं, सिर्फ माह के नाम (कुंडलिया)*
*सावन-भादो दो नहीं, सिर्फ माह के नाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
जीवन एक संघर्ष
जीवन एक संघर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
ज़ब तक धर्मों मे पाप धोने की व्यवस्था है
ज़ब तक धर्मों मे पाप धोने की व्यवस्था है
शेखर सिंह
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"यथार्थ प्रेम"
Dr. Kishan tandon kranti
मिलती बड़े नसीब से , अपने हक की धूप ।
मिलती बड़े नसीब से , अपने हक की धूप ।
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
हर खुशी
हर खुशी
Dr fauzia Naseem shad
प्यार की बात है कैसे कहूं तुम्हें
प्यार की बात है कैसे कहूं तुम्हें
Er. Sanjay Shrivastava
खेत खलिहनवा पसिनवा चुवाइ के सगिरिउ सिन्वर् लाहराइ ला हो भैया
खेत खलिहनवा पसिनवा चुवाइ के सगिरिउ सिन्वर् लाहराइ ला हो भैया
Rituraj shivem verma
अब तो गिरगिट का भी टूट गया
अब तो गिरगिट का भी टूट गया
Paras Nath Jha
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
Keshav kishor Kumar
सबसे प्यारा माॅ॑ का ऑ॑चल
सबसे प्यारा माॅ॑ का ऑ॑चल
VINOD CHAUHAN
पुलवामा अटैक
पुलवामा अटैक
Surinder blackpen
शिव बन शिव को पूजिए, रखिए मन-संतोष।
शिव बन शिव को पूजिए, रखिए मन-संतोष।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Under this naked sky, I wish to hold you in my arms tight.
Under this naked sky, I wish to hold you in my arms tight.
Manisha Manjari
सुनो कभी किसी का दिल ना दुखाना
सुनो कभी किसी का दिल ना दुखाना
shabina. Naaz
23/48.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/48.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माँ को फिक्र बेटे की,
माँ को फिक्र बेटे की,
Harminder Kaur
पर्वत दे जाते हैं
पर्वत दे जाते हैं
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
टूटकर, बिखर कर फ़िर सवरना...
टूटकर, बिखर कर फ़िर सवरना...
Jyoti Khari
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
बाल शिक्षा कविता पाठ / POET : वीरचन्द्र दास बहलोलपुरी
बाल शिक्षा कविता पाठ / POET : वीरचन्द्र दास बहलोलपुरी
Dr MusafiR BaithA
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
Anand Kumar
द़ुआ कर
द़ुआ कर
Atul "Krishn"
प्रेम के रंग कमाल
प्रेम के रंग कमाल
Mamta Singh Devaa
Loading...