Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2022 · 1 min read

हमारी प्यारी मां

ममता का एक घड़ा है माँ।
देवी का स्वरूप है माँ।
हमारी हर एक मुस्कान में
बसी हुई है हमारी प्यारी माँ।
इंद्रधनुष के रंगों जैसे
खूबसूरती का भंडार है माँ।
हमें पेटभर खिलाकर
खुद भूखे पेट सो जाती हैं माँ।
ख़ुद के चाहे कितने ही सपने टूटे हो
पर हमारे हर सपने को साकार करती है मां
फिर भी न जाने क्यों हम लोग
अपमान उसका करते हैं?
ममता की मूरत को हम लोग
ख्याल नहीं रखा करते हैं।
जाने अनजाने में दुख उसको पहुंचा देते है
फिर भी वो कुछ नहीं कहती है
सबकुछ मन में दबाए रखती है
बस हमेशा वो खुश रहती है
अपने बच्चों को आशीष वो देती रहती है।

Language: Hindi
2 Likes · 469 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्या कहूँ ?
क्या कहूँ ?
Niharika Verma
*आइसक्रीम (बाल कविता)*
*आइसक्रीम (बाल कविता)*
Ravi Prakash
हे राम हृदय में आ जाओ
हे राम हृदय में आ जाओ
Saraswati Bajpai
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
ऋचा पाठक पंत
माली अकेला क्या करे ?,
माली अकेला क्या करे ?,
ओनिका सेतिया 'अनु '
KRISHANPRIYA
KRISHANPRIYA
Gunjan Sharma
मार्केटिंग फंडा
मार्केटिंग फंडा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुझसे गलतियां हों तो अपना समझकर बता देना
मुझसे गलतियां हों तो अपना समझकर बता देना
Sonam Puneet Dubey
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
Rj Anand Prajapati
धरती का बस एक कोना दे दो
धरती का बस एक कोना दे दो
Rani Singh
हिन्दी दोहे- चांदी
हिन्दी दोहे- चांदी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सज़ा-ए-मौत भी यूं मिल जाती है मुझे,
सज़ा-ए-मौत भी यूं मिल जाती है मुझे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कातिल
कातिल
Dr. Kishan tandon kranti
दीपों की माला
दीपों की माला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
, गुज़रा इक ज़माना
, गुज़रा इक ज़माना
Surinder blackpen
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
Ravi Shukla
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
हम उन्हें कितना भी मनाले
हम उन्हें कितना भी मनाले
The_dk_poetry
प्रेम के जीत।
प्रेम के जीत।
Acharya Rama Nand Mandal
3365.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3365.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
कथ्य-शिल्प में धार रख, शब्द-शब्द में मार।
कथ्य-शिल्प में धार रख, शब्द-शब्द में मार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
😢युग-युग का सच😢
😢युग-युग का सच😢
*प्रणय प्रभात*
नवीन वर्ष (पञ्चचामर छन्द)
नवीन वर्ष (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
उम्रें गुज़र गयी है।
उम्रें गुज़र गयी है।
Taj Mohammad
-शेखर सिंह ✍️
-शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
विवाह
विवाह
Shashi Mahajan
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
gurudeenverma198
*माटी की संतान- किसान*
*माटी की संतान- किसान*
Harminder Kaur
जंगल ये जंगल
जंगल ये जंगल
Dr. Mulla Adam Ali
हिन्दी
हिन्दी
manjula chauhan
Loading...