Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Sep 2023 · 1 min read

हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,

हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
जो खुद,हमसे ज्यादा काबिल नहीं ।
वो करते हैं हमारी जख्मों का सौदा,
मगर खुद कभी होते इनमें शामिल नहीं ।।

एक बार जब हो जायेंगे शामिल,
तो पता उन्हें चल जायेगा ।
कितना दर्द या कितनी खुशी मिलती है,
उन्हें भी पता लग जायेगा ।।

पर क्या करें वो भी,
उनकी भी मजबूरी है ।
हम सब समझते हैं,
हम इतने भी जाहिल नहीं ।।

लेखक – मन मोहन कृष्ण
तारीख – 02/05/2020
समय :– 01:11 ( दोपहर )

178 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तू मेरी हीर बन गई होती - संदीप ठाकुर
तू मेरी हीर बन गई होती - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
"रामगढ़ की रानी अवंतीबाई लोधी"
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
Doob bhi jaye to kya gam hai,
Doob bhi jaye to kya gam hai,
Sakshi Tripathi
रिश्ते
रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
■एक टिकट : सौ निकट■
■एक टिकट : सौ निकट■
*Author प्रणय प्रभात*
अब तो आ जाओ कान्हा
अब तो आ जाओ कान्हा
Paras Nath Jha
व्यथा दिल की
व्यथा दिल की
Devesh Bharadwaj
"एक ही जीवन में
पूर्वार्थ
हम्मीर देव चौहान
हम्मीर देव चौहान
Ajay Shekhavat
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
शीर्षक - खामोशी
शीर्षक - खामोशी
Neeraj Agarwal
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम भी 2000 के नोट की तरह निकले,
तुम भी 2000 के नोट की तरह निकले,
Vishal babu (vishu)
बदला सा व्यवहार
बदला सा व्यवहार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
अब रिश्तों का व्यापार यहां बखूबी चलता है
अब रिश्तों का व्यापार यहां बखूबी चलता है
Pramila sultan
The Digi Begs [The Online Beggars]
The Digi Begs [The Online Beggars]
AJAY AMITABH SUMAN
फितरत
फितरत
पूनम झा 'प्रथमा'
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
Sûrëkhâ Rãthí
एक ग़ज़ल यह भी
एक ग़ज़ल यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
कितने कोमे जिंदगी ! ले अब पूर्ण विराम।
कितने कोमे जिंदगी ! ले अब पूर्ण विराम।
डॉ.सीमा अग्रवाल
हम जो भी कार्य करते हैं वो सब बाद में वापस लौट कर आता है ,चा
हम जो भी कार्य करते हैं वो सब बाद में वापस लौट कर आता है ,चा
Shashi kala vyas
वर्णिक छंद में तेवरी
वर्णिक छंद में तेवरी
कवि रमेशराज
धन्यवाद कोरोना
धन्यवाद कोरोना
Arti Bhadauria
शेष
शेष
Dr.Priya Soni Khare
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
आचार्य वृन्दान्त
कहां तक चलना है,
कहां तक चलना है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
2766. *पूर्णिका*
2766. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*सिंह की सवारी (घनाक्षरी : सिंह विलोकित छंद)*
*सिंह की सवारी (घनाक्षरी : सिंह विलोकित छंद)*
Ravi Prakash
हकमारी
हकमारी
Shekhar Chandra Mitra
जिंदगी झंड है,
जिंदगी झंड है,
कार्तिक नितिन शर्मा
Loading...