Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Dec 2023 · 1 min read

हमारा संघर्ष

हमारा संघर्ष

हमारा संघर्ष हम ही को पता है,
बर्बाद हुआ वक्त हम ही को पता है,
लोग पूछते हैं सिलेक्शन क्यों नहीं हुआ,
सिलेक्शन क्यों नहीं हुआ हम ही को पता है।

रातों-रात जागकर पढ़ते रहे,कभी नींद न आई,
पढ़ाई के लिए हमने सब कुछ छोड़ दिया,
परन्तु सिलेक्शन नहीं हुआ।

लोग कहते हैं कि हमने मेहनत नहीं की,
परन्तु हम जानते हैं कि हमने कितनी मेहनत की है,
हमने अपनी जान लगा दी थी,परन्तु सिलेक्शन नहीं हुआ।

हम जानते हैं कि सिलेक्शन नहीं हुआ,
क्योंकि हमारे भाग्य में नहीं था,परन्तु हम निराश नहीं हुए,
हम फिर से कोशिश करेंगे।

हम जानते हैं कि सिलेक्शन एक बार नहीं होता,
बल्कि कई बार होता है,हम तैयार हैं,
हम फिर से कोशिश करेंगे।

231 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आसमान पर बादल छाए हैं
आसमान पर बादल छाए हैं
Neeraj Agarwal
पर्यावरण है तो सब है
पर्यावरण है तो सब है
Amrit Lal
आसमां में चांद अकेला है सितारों के बीच
आसमां में चांद अकेला है सितारों के बीच
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
2506.पूर्णिका
2506.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
लिख लेते हैं थोड़ा-थोड़ा
लिख लेते हैं थोड़ा-थोड़ा
Suryakant Dwivedi
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
*पाई कब छवि ईश की* (कुंडलिया)
*पाई कब छवि ईश की* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
Ajay Mishra
#मिसाल-
#मिसाल-
*Author प्रणय प्रभात*
शीतलहर
शीतलहर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
Rj Anand Prajapati
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जय श्री कृष्णा राधे राधे
जय श्री कृष्णा राधे राधे
Shashi kala vyas
बचपन में थे सवा शेर जो
बचपन में थे सवा शेर जो
VINOD CHAUHAN
मूर्ख बनाकर काक को, कोयल परभृत नार।
मूर्ख बनाकर काक को, कोयल परभृत नार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
सीख का बीज
सीख का बीज
Sangeeta Beniwal
खवाब
खवाब
Swami Ganganiya
नव-निवेदन
नव-निवेदन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
बेटियां!दोपहर की झपकी सी
बेटियां!दोपहर की झपकी सी
Manu Vashistha
*लटें जज़्बात कीं*
*लटें जज़्बात कीं*
Poonam Matia
सुबह की नींद सबको प्यारी होती है।
सुबह की नींद सबको प्यारी होती है।
Yogendra Chaturwedi
"दरअसल"
Dr. Kishan tandon kranti
गीत
गीत
Shiva Awasthi
"आए हैं ऋतुराज"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जब किसी बज़्म तेरी बात आई ।
जब किसी बज़्म तेरी बात आई ।
Neelam Sharma
जब -जब धड़कन को मिली,
जब -जब धड़कन को मिली,
sushil sarna
बाल एवं हास्य कविता: मुर्गा टीवी लाया है।
बाल एवं हास्य कविता: मुर्गा टीवी लाया है।
Rajesh Kumar Arjun
सावन आया झूम के .....!!!
सावन आया झूम के .....!!!
Kanchan Khanna
एहसास
एहसास
Er.Navaneet R Shandily
Loading...