Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Dec 2023 · 1 min read

हममें आ जायेंगी बंदिशे

#दिनांक:- 6/12/2023
#विषय- हममें आ जायेंगी बंदिशे

प्रेम की गहराई,
ना कर तू ऐसी रुसवाई,
आ…..आजा,
अथाह प्रेम के सागर में,
डूबकियाँ लगा ले प्रिये,
चकाचौंध भरी दुनिया में,
ना डगमगा प्रिये,
सोने का हिरन ना मांग,
मेरी सामर्थ्य को पहचान,
इश्क जैसा चाहिए,
उससे भी ज्पादा देने का रखती अरमान!
पर,,,,
अगर तू करती जायेगी,
नित नवीन फरमाइशें,
फिर हममें आ जायेगी बंदिशे,
अब के बिछड़े; फिर ना मिल पायेंगे,
सच्ची मुहब्बत को फिर,
मुकाम तक कैसे ले जायेंगे??
सागर से गागर आ भरते है प्रिये,
सबसे अलग इश्क करते है प्रिये,
ना जिस्मानी ना रूहानी,
बिन देखे, बिन बोले, प्राकाम्य प्रेम करते है प्रिये….|

रचना मौलिक,स्वरचित और सर्वाधिक सुरक्षित है|

प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
1 Like · 124 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
shabina. Naaz
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
घबरा के छोड़ दें
घबरा के छोड़ दें
Dr fauzia Naseem shad
उस रावण को मारो ना
उस रावण को मारो ना
VINOD CHAUHAN
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
3104.*पूर्णिका*
3104.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
****शिक्षक****
****शिक्षक****
Kavita Chouhan
सदा किया संघर्ष सरहद पर,विजयी इतिहास हमारा।
सदा किया संघर्ष सरहद पर,विजयी इतिहास हमारा।
Neelam Sharma
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
साहित्य का बुनियादी सरोकार +रमेशराज
साहित्य का बुनियादी सरोकार +रमेशराज
कवि रमेशराज
जागो बहन जगा दे देश 🙏
जागो बहन जगा दे देश 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरी जाति 'स्वयं ' मेरा धर्म 'मस्त '
मेरी जाति 'स्वयं ' मेरा धर्म 'मस्त '
सिद्धार्थ गोरखपुरी
यूँ इतरा के चलना.....
यूँ इतरा के चलना.....
Prakash Chandra
उत्कर्ष
उत्कर्ष
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
माँ सिर्फ़ वात्सल्य नहीं
माँ सिर्फ़ वात्सल्य नहीं
Anand Kumar
Lamhon ki ek kitab hain jindagi ,sanso aur khayalo ka hisab
Lamhon ki ek kitab hain jindagi ,sanso aur khayalo ka hisab
Sampada
3) “प्यार भरा ख़त”
3) “प्यार भरा ख़त”
Sapna Arora
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
*प्लीज और सॉरी की महिमा {हास्य-व्यंग्य}*
*प्लीज और सॉरी की महिमा {हास्य-व्यंग्य}*
Ravi Prakash
शीर्षक – शुष्क जीवन
शीर्षक – शुष्क जीवन
Manju sagar
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
बात शक्सियत की
बात शक्सियत की
Mahender Singh
एक बार फिर...
एक बार फिर...
Madhavi Srivastava
चाय की चुस्की लेते ही कुछ देर तक ऊर्जा शक्ति दे जाती है फिर
चाय की चुस्की लेते ही कुछ देर तक ऊर्जा शक्ति दे जाती है फिर
Shashi kala vyas
चेहरा देख के नहीं स्वभाव देख कर हमसफर बनाना चाहिए क्योंकि चे
चेहरा देख के नहीं स्वभाव देख कर हमसफर बनाना चाहिए क्योंकि चे
Ranjeet kumar patre
प्रेम
प्रेम
विमला महरिया मौज
ग़र हो इजाजत
ग़र हो इजाजत
हिमांशु Kulshrestha
"नहीं तैरने आता था तो"
Dr. Kishan tandon kranti
आडम्बर के दौर में,
आडम्बर के दौर में,
sushil sarna
Loading...