Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 1 min read

हमने भी ज़िंदगी को

ज़ख़्मों पर वक़्त का मरहम लगा दिया ।
हमने भी ज़िन्दगी को जीकर दिखा दिया ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
13 Likes · 207 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
इश्क की वो  इक निशानी दे गया
इश्क की वो इक निशानी दे गया
Dr Archana Gupta
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
चंद अशआर - हिज्र
चंद अशआर - हिज्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"रुपया"
Dr. Kishan tandon kranti
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
आवारगी मिली
आवारगी मिली
Satish Srijan
After becoming a friend, if you do not even talk or write tw
After becoming a friend, if you do not even talk or write tw
DrLakshman Jha Parimal
रजनी छंद (विधान सउदाहरण)
रजनी छंद (विधान सउदाहरण)
Subhash Singhai
*****रामलला*****
*****रामलला*****
Kavita Chouhan
Dr arun कुमार शास्त्री
Dr arun कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तोलेंगे सब कम मगर,
तोलेंगे सब कम मगर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेहतर है गुमनाम रहूं,
बेहतर है गुमनाम रहूं,
Amit Pathak
मौत ने पूछा जिंदगी से,
मौत ने पूछा जिंदगी से,
Umender kumar
बाल कविता: मुन्नी की मटकी
बाल कविता: मुन्नी की मटकी
Rajesh Kumar Arjun
23/43.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/43.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
राममय दोहे
राममय दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*हजारों हादसों से रोज, जो हमको बचाता है (हिंदी गजल)*
*हजारों हादसों से रोज, जो हमको बचाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
तेरी यादों में लिखी कविताएं, सायरियां कितनी
तेरी यादों में लिखी कविताएं, सायरियां कितनी
Amit Pandey
जिसे पश्चिम बंगाल में
जिसे पश्चिम बंगाल में
*Author प्रणय प्रभात*
कदीमी याद
कदीमी याद
Sangeeta Beniwal
तुम गए कहाँ हो 
तुम गए कहाँ हो 
Amrita Shukla
चूल्हे की रोटी
चूल्हे की रोटी
प्रीतम श्रावस्तवी
पिता
पिता
Dr Parveen Thakur
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
Rj Anand Prajapati
अपनी क़ीमत
अपनी क़ीमत
Dr fauzia Naseem shad
एक ख्वाब थे तुम,
एक ख्वाब थे तुम,
लक्ष्मी सिंह
सफर पर निकले थे जो मंजिल से भटक गए
सफर पर निकले थे जो मंजिल से भटक गए
डी. के. निवातिया
मातृशक्ति
मातृशक्ति
Sanjay ' शून्य'
सावन
सावन
Ambika Garg *लाड़ो*
Loading...