Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2023 · 1 min read

हत्या-अभ्यस्त अपराधी सा मुख मेरा / MUSAFIR BAITHA

मैं आपको सहज दिख रहा होऊंगा
लग रहा होऊंगा मुस्कुराता हुआ
सन्तुष्ट भाव का परिचय
मेरे चेहरे से पा रहे होंगे आप
शिकवा शिकायत दुःख दर्द क्लेश का
कोई रग-रेशा नहीं मिल पा रहा होगा
मुस्कान मंडित मेरे मुखड़े से आपको
मुझे आप सदा सदा से, युगों युगों से
प्रताड़ना-वंचित सा पा सकते हैं यद्यपि कि
साहेब!
हत्या-अभ्यस्त हत्यारे का केवल चेहरा पढ़
क्या आप उसके द्वारा अंजाम दिए गये
लाखो गुनाहों को लख सकते हैं
नहीं न!
सतत हत्या में रत एवं हत
दोनों आत्यंतिक छोरों का चेहरा
अक्सर नकली होता है!

Language: Hindi
190 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
Anil Mishra Prahari
कुछ अपनी कुछ उनकी बातें।
कुछ अपनी कुछ उनकी बातें।
सत्य कुमार प्रेमी
दिन आज आखिरी है, खत्म होते साल में
दिन आज आखिरी है, खत्म होते साल में
gurudeenverma198
इंसान हो या फिर पतंग
इंसान हो या फिर पतंग
शेखर सिंह
*नहीं पूनम में मिलता, न अमावस रात काली में (मुक्तक) *
*नहीं पूनम में मिलता, न अमावस रात काली में (मुक्तक) *
Ravi Prakash
नए मौसम की चका चोंध में देश हमारा किधर गया
नए मौसम की चका चोंध में देश हमारा किधर गया
कवि दीपक बवेजा
नौजवान सुभाष
नौजवान सुभाष
Aman Kumar Holy
आजाद पंछी
आजाद पंछी
Ritu Asooja
(23) कुछ नीति वचन
(23) कुछ नीति वचन
Kishore Nigam
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भारत सनातन का देश है।
भारत सनातन का देश है।
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
अनजाने में भी कोई गलती हो जाये
अनजाने में भी कोई गलती हो जाये
ruby kumari
कशमें मेरे नाम की।
कशमें मेरे नाम की।
Diwakar Mahto
बरसात
बरसात
Bodhisatva kastooriya
-- दिखावटी लोग --
-- दिखावटी लोग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
जीनी है अगर जिन्दगी
जीनी है अगर जिन्दगी
Mangilal 713
दूब घास गणपति
दूब घास गणपति
Neelam Sharma
बे खुदी में सवाल करते हो
बे खुदी में सवाल करते हो
SHAMA PARVEEN
सुहाग रात
सुहाग रात
Ram Krishan Rastogi
2895.*पूर्णिका*
2895.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ बच कर रहिएगा
■ बच कर रहिएगा
*Author प्रणय प्रभात*
सावन आया
सावन आया
Neeraj Agarwal
ये  कहानी  अधूरी   ही  रह  जायेगी
ये कहानी अधूरी ही रह जायेगी
Yogini kajol Pathak
समझ आती नहीं है
समझ आती नहीं है
हिमांशु Kulshrestha
******** प्रेम भरे मुक्तक *********
******** प्रेम भरे मुक्तक *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"संकल्प-शक्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी ह
अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी ह
पूर्वार्थ
समीक्षा ,कर्त्तव्य-बोध (कहानी संग्रह)
समीक्षा ,कर्त्तव्य-बोध (कहानी संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शब्द गले में रहे अटकते, लब हिलते रहे।
शब्द गले में रहे अटकते, लब हिलते रहे।
विमला महरिया मौज
मृत्यु पर विजय
मृत्यु पर विजय
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...