Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

हँसकर गुजारी

नित नये दोस्तो से मिल नये मान मिलते है!
उम्र की गिनती रोक कर,हम शान खिलते है!!
सुबह गुज़रती है योग,दौडने,घूमने के बहाने!
फिर दौर चाय की चुस्की अखबार के मुहाने!!
फेसबुक मैसेज से दुआ सलाम का सिलसिला!
कुछ ज़वान है तो कोई हो चुका है पिलपिला!!
अब तलक नही छोडी कारखाने की रिवायत!
घर वालो से न कोई चू चपड नाही शिकायत!!
बाद नहाने-धोने और पूजा-पाठ ,फिर भोजन!
दिन गुज़रे सलामती औ खुशी कटे सौ योजन!!
जिन्दगी का मजा क्योकर कम करू ‘लेनिन’?
हँसकर गुजारी अब तलक ना गिला ‘लेनिन’!!
आने वाली पीढी को बस है यही इक हिदायत!
लम्बी उम्र का उज्र हो,किसी से नही शिकायत!!
मुडकर कभी देखना नही अच्छा बुरा इस सफर!
मस्त कट जाएगी ऐसे ही,बस बाकी है जो डगर!!
मौलिक रचना सर्वाधिकार सुरछित
बोधिसत्व कस्तूरिया ‘लेनिन’ एडवोकेट,कवि,पत्रकार
202 नीरव निकुजं फेस-2 सिकंदरा आगरा -282007
मो:9412443093

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
दुआ किसी को अगर देती है
दुआ किसी को अगर देती है
प्रेमदास वसु सुरेखा
सुंदरता हर चीज में होती है बस देखने वाले की नजर अच्छी होनी च
सुंदरता हर चीज में होती है बस देखने वाले की नजर अच्छी होनी च
Neerja Sharma
"सदियों का सन्ताप"
Dr. Kishan tandon kranti
वज़्न -- 2122 2122 212 अर्कान - फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन बह्र का नाम - बह्रे रमल मुसद्दस महज़ूफ़
वज़्न -- 2122 2122 212 अर्कान - फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन बह्र का नाम - बह्रे रमल मुसद्दस महज़ूफ़
Neelam Sharma
*नहीं हाथ में भाग्य मनुज के, किंतु कर्म-अधिकार है (गीत)*
*नहीं हाथ में भाग्य मनुज के, किंतु कर्म-अधिकार है (गीत)*
Ravi Prakash
2397.पूर्णिका
2397.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मांँ ...….....एक सच है
मांँ ...….....एक सच है
Neeraj Agarwal
कुछ लिखूँ ....!!!
कुछ लिखूँ ....!!!
Kanchan Khanna
उतर गए निगाह से वे लोग भी पुराने
उतर गए निगाह से वे लोग भी पुराने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बिन सूरज महानगर
बिन सूरज महानगर
Lalit Singh thakur
मैं हूं न ....@
मैं हूं न ....@
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
छायावाद के गीतिकाव्य (पुस्तक समीक्षा)
छायावाद के गीतिकाव्य (पुस्तक समीक्षा)
दुष्यन्त 'बाबा'
#अद्भुत_प्रसंग
#अद्भुत_प्रसंग
*Author प्रणय प्रभात*
*Khus khvab hai ye jindagi khus gam ki dava hai ye jindagi h
*Khus khvab hai ye jindagi khus gam ki dava hai ye jindagi h
Vicky Purohit
कान्हा मेरे जैसे छोटे से गोपाल
कान्हा मेरे जैसे छोटे से गोपाल
Harminder Kaur
क्षितिज पार है मंजिल
क्षितिज पार है मंजिल
Atul "Krishn"
स्वार्थी नेता
स्वार्थी नेता
पंकज कुमार कर्ण
मोबाइल
मोबाइल
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
दो का पहाडा़
दो का पहाडा़
Rituraj shivem verma
दिल होता .ना दिल रोता
दिल होता .ना दिल रोता
Vishal Prajapati
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
Smriti Singh
ऐसे दर्शन सदा मिले
ऐसे दर्शन सदा मिले
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
फितरत
फितरत
Akshay patel
जग जननी
जग जननी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
आर.एस. 'प्रीतम'
चेहरे क्रीम पाउडर से नहीं, बल्कि काबिलियत से चमकते है ।
चेहरे क्रीम पाउडर से नहीं, बल्कि काबिलियत से चमकते है ।
Ranjeet kumar patre
" मेरा राज मेरा भगवान है "
Dr Meenu Poonia
कवि के उर में जब भाव भरे
कवि के उर में जब भाव भरे
लक्ष्मी सिंह
वही पर्याप्त है
वही पर्याप्त है
Satish Srijan
Loading...