Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Feb 2023 · 1 min read

स्वार्थ

दुल्हन की तरह सजी इस धरती को
मानव ने धीरे धीरे कर उजाड़ डाला
अपने स्वार्थ को पाने के लिए
मानव ने दूसरों का घर उजाड़ डाला
स्वार्थ इतनी भरी पड़ी है
कि अपनों को भूल जाते हैं
जब स्वयं पर आती है तकलीफे
तब दूसरों की याद आती है
मैं सोचता हूं मानव को ईश्वर ने क्यों बनाया
और बनाया तो इतनी लालच क्यों दे डाला
क्या लेकर आया था क्या लेकर जाएगा
जो अपने को न हो पाया
वह दूसरे को क्या हो पाएगा
दुल्हन की तरह सजी इस धरती को
मानव ने धीरे-धीरे कर उजाड़ डाला

सुशील कुमार चौहान
फारबिसगंज अररिया बिहार

Language: Hindi
194 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आंधियों से हम बुझे तो क्या दिए रोशन करेंगे
आंधियों से हम बुझे तो क्या दिए रोशन करेंगे
कवि दीपक बवेजा
मेरे हमदर्द मेरे हमराह, बने हो जब से तुम मेरे
मेरे हमदर्द मेरे हमराह, बने हो जब से तुम मेरे
gurudeenverma198
Samay  ka pahiya bhi bada ajib hai,
Samay ka pahiya bhi bada ajib hai,
Sakshi Tripathi
श्वासें राधा हुईं प्राण कान्हा हुआ।
श्वासें राधा हुईं प्राण कान्हा हुआ।
Neelam Sharma
"शहर की याद"
Dr. Kishan tandon kranti
शाबाश चंद्रयान-३
शाबाश चंद्रयान-३
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
*महाराजा अग्रसेन और महात्मा गॉंधी (नौ दोहे)*
*महाराजा अग्रसेन और महात्मा गॉंधी (नौ दोहे)*
Ravi Prakash
अश्रु
अश्रु
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
- दीवारों के कान -
- दीवारों के कान -
bharat gehlot
रिश्ते
रिश्ते
Punam Pande
मैंने साइकिल चलाते समय उसका भौतिक रूप समझा
मैंने साइकिल चलाते समय उसका भौतिक रूप समझा
Ms.Ankit Halke jha
The flames of your love persist.
The flames of your love persist.
Manisha Manjari
कोई मरहम
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
यें सारे तजुर्बे, तालीम अब किस काम का
यें सारे तजुर्बे, तालीम अब किस काम का
Keshav kishor Kumar
ভালো উপদেশ
ভালো উপদেশ
Arghyadeep Chakraborty
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तेवरीः तेवरी है, ग़ज़ल नहीं +रमेशराज
तेवरीः तेवरी है, ग़ज़ल नहीं +रमेशराज
कवि रमेशराज
23/10.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/10.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
विश्व वरिष्ठ दिवस
विश्व वरिष्ठ दिवस
Ram Krishan Rastogi
मैं और मेरा
मैं और मेरा
Pooja Singh
Shayari
Shayari
Sahil Ahmad
* तपन *
* तपन *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ऋतु परिवर्तन
ऋतु परिवर्तन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
**माटी जन्मभूमि की**
**माटी जन्मभूमि की**
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
परिवर्तन विकास बेशुमार
परिवर्तन विकास बेशुमार
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ईमानदारी. . . . . लघुकथा
ईमानदारी. . . . . लघुकथा
sushil sarna
प्रेरणा
प्रेरणा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रिश्ते
रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
मैं भौंर की हूं लालिमा।
मैं भौंर की हूं लालिमा।
Surinder blackpen
■ काम की बात
■ काम की बात
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...