Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 2 min read

“स्वार्थी रिश्ते”

जो दिल के रिश्ते होते हैं ,
उसमे सहूलियत दिखती है ।
जो दिमाग के रिश्ते होते हैं ,
उसमे चालाकियत दिखती है।

साजिश रचने वाले ,कोई गैर नही,
जो खून के रिश्तों के बीच रची जा रही है।
खूबसूरती से कड़वापन मीठे बोल बोलते है,
अपने खोल में यह जहर घोल लेते हैं।

रिशों में अब वो स्याही नही,पेंसिल से रिश्ते हैं,
जिन्हें जब चाहे रबर से मिटा सकते हैं।
साथ रहना है जिनके मुझे,
रिश्ता क्या है कहते दिखे।

गैरों की बात अलग है,
रूप अपनो के बदलते दिखे।
चाहते थे तेरे मेरे रंग एक हो,
दुख हैं तेरे रंग फरेबी दिखे।

है वक्त सही तो ,सब कुछ सही,
वक्त के साथ फैसले बदलते दिखे।
बेगाने होते अपने ,अपनो को अजनबी देखा,
बेगानो के हाथों में मरहम,अपनो के हाथ खंजर देखा।

मत पूंछ इन आँखों ने क्या क्या मंजर देखा,
अपनो को ही ,खुद बेखबर होते देखा।
लोग कहते हैं मैं बदल गई हूँ,
सही में अब मैं रिश्तों को समझ गई हूँ।

कल तक नदी थी,मैं बह रही थी,
आज मैं सागर में सिमट गई हूँ।
रिश्तों की मैली चादर,चली सरक कर हटने,
उठा नाम बटवारे का तो,लगा ही रिश्ते बटने।

अंगुली पकड़कर हाथ चलाया ,
घर द्वारे और अँगने,
टूटी माला बिखरे सब अपने,
बड़े दर्द के साथ झुलस गए सब सपने।

रिश्तो में अब पड़ी दरारे ,लगा कलेजा फटने,
रिश्ते नाते हुए पराये जो कल तक थे अपने।
जिसकी करते थे दुआ हजारों में,
वही रिश्तों को बेंच दिए स्वार्थ के बाजारो में।

पाकिजगी रिश्तो में रहे,दूषित न कीजिये,
रूह से बनते हैं रिश्ते ,निभाया भी कीजिये।
रिश्तो को सीमाओं में बांधा नही करते,
झुठी परिभाषाओ में ढाला नही करते।

हकदार बदल दिए जाते हैं, किरदार बदल जाते हैं,
मन्नत ना पूरी हो तो भगवान बदल दिए जाते हैं।
गलत का विरोध,खुलकर कीजिये,
राजनीति हो या हो समाज,
इतिहास कुछ करने वालों का लिखा जाता है आज।

कुछ रिश्तों में हम जीते हैं,
कुछ रिश्ते हमसे जीते हैं।
जिंदगी किसको मिली है, सदा के लिए,
मर जाने पर क्यों आओगे विदा के लिए।

स्वार्थ के रिश्ते ना बनाओ दोस्तों,
दिल के ही रिश्ते बनाओ दोस्तो।
जब ये एक बार टूट जाता है,
फिर चाहे कितना जोड़ो, कभी न जुड़ पाता है ।।

लेखिका:- एकता श्रीवास्तव ✍️
प्रयागराज

1 Like · 55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ekta chitrangini
View all
You may also like:
*गाजर-हलवा श्रेष्ठतम, मीठे का अभिप्राय (कुंडलिया)*
*गाजर-हलवा श्रेष्ठतम, मीठे का अभिप्राय (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"मेरी नयी स्कूटी"
Dr Meenu Poonia
कुछ व्यंग्य पर बिल्कुल सच
कुछ व्यंग्य पर बिल्कुल सच
Ram Krishan Rastogi
चाहे किसी के साथ रहे तू , फिर भी मेरी याद आयेगी
चाहे किसी के साथ रहे तू , फिर भी मेरी याद आयेगी
gurudeenverma198
वट सावित्री अमावस्या
वट सावित्री अमावस्या
नवीन जोशी 'नवल'
कर गमलो से शोभित जिसका
कर गमलो से शोभित जिसका
प्रेमदास वसु सुरेखा
'फौजी होना आसान नहीं होता
'फौजी होना आसान नहीं होता"
Lohit Tamta
💐प्रेम कौतुक-451💐
💐प्रेम कौतुक-451💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
धन्य सूर्य मेवाड़ भूमि के
धन्य सूर्य मेवाड़ भूमि के
surenderpal vaidya
"प्रेम -मिलन '
DrLakshman Jha Parimal
मेरी खूबसूरती बदन के ऊपर नहीं,
मेरी खूबसूरती बदन के ऊपर नहीं,
ओसमणी साहू 'ओश'
सावन मे नारी।
सावन मे नारी।
Acharya Rama Nand Mandal
मजदूर
मजदूर
umesh mehra
पुलवामा हमले पर शहीदों को नमन चार पंक्तियां
पुलवामा हमले पर शहीदों को नमन चार पंक्तियां
कवि दीपक बवेजा
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
Gouri tiwari
✍️माँ ✍️
✍️माँ ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
एक पल में ये अशोक बन जाता है
एक पल में ये अशोक बन जाता है
ruby kumari
~रेत की आत्मकथा ~
~रेत की आत्मकथा ~
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Yado par kbhi kaha pahra hota h.
Yado par kbhi kaha pahra hota h.
Sakshi Tripathi
ईश्वर से शिकायत क्यों...
ईश्वर से शिकायत क्यों...
Radhakishan R. Mundhra
हार जाते हैं
हार जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
शयनकक्ष श्री हरि चले, कौन सँभाले भार ?।
शयनकक्ष श्री हरि चले, कौन सँभाले भार ?।
डॉ.सीमा अग्रवाल
बृद्धाश्रम विचार गलत नहीं है, यदि संस्कृति और वंश को विकसित
बृद्धाश्रम विचार गलत नहीं है, यदि संस्कृति और वंश को विकसित
Sanjay ' शून्य'
अधूरापन
अधूरापन
Rohit yadav
साइबर ठगी हाय रे, करते रहते लोग
साइबर ठगी हाय रे, करते रहते लोग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#कहानी-
#कहानी-
*Author प्रणय प्रभात*
डरे गड़ेंता ऐंड़ाने (बुंदेली गीत)
डरे गड़ेंता ऐंड़ाने (बुंदेली गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
2704.*पूर्णिका*
2704.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इक दिन चंदा मामा बोले ,मेरी प्यारी प्यारी नानी
इक दिन चंदा मामा बोले ,मेरी प्यारी प्यारी नानी
Dr Archana Gupta
तन से अपने वसन घटाकर
तन से अपने वसन घटाकर
Suryakant Dwivedi
Loading...