Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2023 · 1 min read

स्वाभिमानी किसान

स्वाभिमानी किसान

“नमस्कार मैनेजर साहब।” मैनेजर के चैंबर में घुसते हुए रामलाल बोला।

“नमस्कार, आइए-आइए, रामलाल जी। बैठिए। बताइए क्या सेवा करूँ आपकी ?” गाँव के मँझोले किसान रामलाल जी को मैनेजर साहब अच्छे से पहचानते थे। पिछले तीन साल से हर महीने की ठीक सात तारीख को ही किश्त जमा करने जो आता है।

“एक जमा पर्ची दे दीजिए, किश्त जमा करनी है।” रामलाल विनम्रतापूर्वक बोला।

“अभी कुछ दिन रूक जाओ रामलाल। सरकार सभी किसानों का कर्जा माफ करने वाली है।” मैनेजर ने उसे समझाते हुए कहा।

“क्या मैनेजर साहब आप भी, कैसी बात करते हैं। अभी की किश्त तो जमा कर लीजिए। जब होगा माफ, तब देख लेंगे।” रामलाल बोला।

“रामलाल जी, आपके ही भले के लिए बता रहा हूँ। सचमुच सरकार किसानों का कर्जा माफ कर रही है।” मैनेजर ने बताया।

“मैनेजर साहब, मैं मोहताज नहीं, सक्षम हूँ। मैंने इस विश्वास के साथ कर्जा लिया था, कि लौटा दूँगा। माफी की उम्मीद पर कर्ज नहीं ली थी। लाइए, दीजिए एक पर्ची।” उसने आगे हाथ बढ़ाते हुए कहा।

आज मैनेजर खुद को रामलाल के सामने बहुत ही छोटा महसूस कर रहा था। वह अपनी जिंदगी में पहली बार किसी स्वाभिमानी किसान से मिल रहा था। अपनी टेबल दराज से एक फॉर्म निकाल कर देते हुए बोला, “लीजिए फॉर्म। काश ! सारे किसान आपकी तरह होते।”

– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
219 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2856.*पूर्णिका*
2856.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
The_dk_poetry
माफिया
माफिया
Sanjay ' शून्य'
एक अर्सा हुआ है
एक अर्सा हुआ है
हिमांशु Kulshrestha
शहीदों के लिए (कविता)
शहीदों के लिए (कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
पंछी और पेड़
पंछी और पेड़
नन्दलाल सुथार "राही"
भाई बहिन के त्यौहार का प्रतीक है भाईदूज
भाई बहिन के त्यौहार का प्रतीक है भाईदूज
gurudeenverma198
कितनी ही दफा मुस्कुराओ
कितनी ही दफा मुस्कुराओ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
Rj Anand Prajapati
🌙Chaand Aur Main✨
🌙Chaand Aur Main✨
Srishty Bansal
कविता: घर घर तिरंगा हो।
कविता: घर घर तिरंगा हो।
Rajesh Kumar Arjun
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मेले
मेले
Punam Pande
तुम्हें पाना-खोना एकसार सा है--
तुम्हें पाना-खोना एकसार सा है--
Shreedhar
"आखिर क्यों?"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन को पैगाम समझना पड़ता है
जीवन को पैगाम समझना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
मौसम - दीपक नीलपदम्
मौसम - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शबे- फित्ना
शबे- फित्ना
मनोज कुमार
लालच
लालच
Vandna thakur
भ्रम
भ्रम
Shiva Awasthi
प्रमेय
प्रमेय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
Paras Nath Jha
आसमान तक पहुंचे हो धरती पर हो पांव
आसमान तक पहुंचे हो धरती पर हो पांव
नूरफातिमा खातून नूरी
*सहायता प्राप्त विद्यालय : हानि और लाभ*
*सहायता प्राप्त विद्यालय : हानि और लाभ*
Ravi Prakash
खेल सारा वक्त का है _
खेल सारा वक्त का है _
Rajesh vyas
हमने माना अभी
हमने माना अभी
Dr fauzia Naseem shad
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
manjula chauhan
तुझे कैसे बताऊं तू कितना खाश है मेरे लिए
तुझे कैसे बताऊं तू कितना खाश है मेरे लिए
yuvraj gautam
Loading...