Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2017 · 1 min read

****स्वागत है बसंत का आज****

****समस्त भारतवासियों को बसंत पंचमी की हार्दिक बधाई******
अरुण किरण अंबर में छूटी,
नभ में स्वर्णिम लालिमा छाई है |
रंग बसंती सजा धरा पर,
खेतों में हरियाली आई है |
जौ,कनक की बालियाँ,
खेतों में लहराई हैं |
अमल वृक्ष पर भी देखो,
बौरें बिखर के आई हैं |
नव कोपलों का हुआ सृजन,
हर वृक्ष पर चुनर हरी लहराई है |
बसंती रंग की छटा बिखेरती,
आई-रे-आई बसंत पंचमी आई है |
ऋषि पंचमी,श्री पंचमी,
अधिकारिक वसंत पंचमी,
सभी के मन को भाई है |
सरसों के खेतों ने देखो,
अपनी पूर्णत:पाई है |
पीले-पीले फूल सजे हैं,
रंग-बिरंगी तितलियाँ भी भरमाई हैं |
माध मास की पंचमी देखो,
यह कैसी चमक ले आई है |
मन को किया है इसने हर्षित,
शीत ऋतु भी गरमाई है |
माँ शारदे,माँ सरस्वती की कृपा,
प्रकृति के हर रोम-रोम में समाई है |विद्या की देवी माँ सरस्वती ने,
ज्ञान की ज्योति जलाई है |
आई-रे-आई देखो,
बसंत पंचमी आई है|

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 255 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ मुक्तक
■ मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
कहानियां ख़त्म नहीं होंगी
कहानियां ख़त्म नहीं होंगी
Shekhar Chandra Mitra
🔥आँखें🔥
🔥आँखें🔥
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
क्या यही संसार होगा...
क्या यही संसार होगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
वंदेमातरम
वंदेमातरम
Bodhisatva kastooriya
द्वितीय ब्रह्मचारिणी
द्वितीय ब्रह्मचारिणी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हालात ए शोख निगाहों से जब बदलती है ।
हालात ए शोख निगाहों से जब बदलती है ।
Phool gufran
लगाओ पता इसमें दोष है किसका
लगाओ पता इसमें दोष है किसका
gurudeenverma198
..सुप्रभात
..सुप्रभात
आर.एस. 'प्रीतम'
यदि आप बार बार शिकायत करने की जगह
यदि आप बार बार शिकायत करने की जगह
Paras Nath Jha
तुम सत्य हो
तुम सत्य हो
Dr.Pratibha Prakash
विचार, संस्कार और रस [ दो ]
विचार, संस्कार और रस [ दो ]
कवि रमेशराज
"खुद्दारी"
Dr. Kishan tandon kranti
धुवाँ (SMOKE)
धुवाँ (SMOKE)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मेरी हर आरजू में,तेरी ही ज़ुस्तज़ु है
मेरी हर आरजू में,तेरी ही ज़ुस्तज़ु है
Pramila sultan
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
Lakhan Yadav
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रेत घड़ी / मुसाफ़िर बैठा
रेत घड़ी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
पौधरोपण
पौधरोपण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जब कोई आपसे बहुत बोलने वाला व्यक्ति
जब कोई आपसे बहुत बोलने वाला व्यक्ति
पूर्वार्थ
साँप और इंसान
साँप और इंसान
Prakash Chandra
बच्चे (कुंडलिया )
बच्चे (कुंडलिया )
Ravi Prakash
हर कस्बे हर मोड़ पर,
हर कस्बे हर मोड़ पर,
sushil sarna
मैं तुम और हम
मैं तुम और हम
Ashwani Kumar Jaiswal
गोलियों की चल रही बौछार देखो।
गोलियों की चल रही बौछार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
दिल ए तकलीफ़
दिल ए तकलीफ़
Dr fauzia Naseem shad
संगत
संगत
Sandeep Pande
किसी की तारीफ़ करनी है तो..
किसी की तारीफ़ करनी है तो..
Brijpal Singh
दायरों में बँधा जीवन शायद खुल कर साँस भी नहीं ले पाता
दायरों में बँधा जीवन शायद खुल कर साँस भी नहीं ले पाता
Seema Verma
*मासूम पर दया*
*मासूम पर दया*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...