Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2016 · 1 min read

स्लेट-बत्ती सी जिन्दगी

होती जिन्दगी स्लेट-बत्ती सी तो जीना कितना आसान होता।
गलती होते ही मिटा देते
सही करके दिखा देते
धुंधली होती स्लेट तो नल के नीचे धो लेते
चलती ना कोई बत्ती तो पानी में भिगो लेते
होता सब साफ सुथरा काट छाट का ना निशान होता
होती जिन्दगी स्लेट-बत्ती सी तो जीना कितना आसान होता।

Language: Hindi
2 Comments · 699 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दीप की अभिलाषा।
दीप की अभिलाषा।
Kuldeep mishra (KD)
दर्द आँखों में आँसू  बनने  की बजाय
दर्द आँखों में आँसू बनने की बजाय
शिव प्रताप लोधी
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
Devesh Bharadwaj
★उसकी यादों का साया★
★उसकी यादों का साया★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
बरस  पाँच  सौ  तक रखी,
बरस पाँच सौ तक रखी,
Neelam Sharma
मुझे प्रीत है वतन से,
मुझे प्रीत है वतन से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सुप्रभात
सुप्रभात
Arun B Jain
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
SHAILESH MOHAN
तुम्ही ने दर्द दिया है,तुम्ही दवा देना
तुम्ही ने दर्द दिया है,तुम्ही दवा देना
Ram Krishan Rastogi
पूछता है भारत
पूछता है भारत
Shekhar Chandra Mitra
विकटता और मित्रता
विकटता और मित्रता
Astuti Kumari
#निर्विवाद...
#निर्विवाद...
*Author प्रणय प्रभात*
3027.*पूर्णिका*
3027.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक मशाल जलाओ तो यारों,
एक मशाल जलाओ तो यारों,
नेताम आर सी
अंतिम सत्य
अंतिम सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
ईश्वर, कौआ और आदमी के कान
ईश्वर, कौआ और आदमी के कान
Dr MusafiR BaithA
पत्रकार
पत्रकार
Kanchan Khanna
“ GIVE HONOUR TO THEIR FANS AND FOLLOWERS”
“ GIVE HONOUR TO THEIR FANS AND FOLLOWERS”
DrLakshman Jha Parimal
चुन्नी सरकी लाज की,
चुन्नी सरकी लाज की,
sushil sarna
एक कप कड़क चाय.....
एक कप कड़क चाय.....
Santosh Soni
तुम ही कहती हो न,
तुम ही कहती हो न,
पूर्वार्थ
क्यों नहीं निभाई तुमने, मुझसे वफायें
क्यों नहीं निभाई तुमने, मुझसे वफायें
gurudeenverma198
आवाजें
आवाजें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
" चर्चा चाय की "
Dr Meenu Poonia
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
कितना भी  कर लो जतन
कितना भी कर लो जतन
Paras Nath Jha
हर रिश्ते में विश्वास रहने दो,
हर रिश्ते में विश्वास रहने दो,
Shubham Pandey (S P)
ग़़ज़ल
ग़़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
मैं जानता हूॅ॑ उनको और उनके इरादों को
मैं जानता हूॅ॑ उनको और उनके इरादों को
VINOD CHAUHAN
Loading...