Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 7, 2020 · 1 min read

सौगंध

नहीं जानती तुम मां भारती
मैं तुमको कितना चाहता हूँ
इसीलिए तुम्हारी रक्षा की
सौगंध आज मैं खाता हूँ।
आँच नहीं आने दूंगा मैं
तुम्हारी आन-बान और शान पर मै।
लड़ता जाऊंगा तुम्हारी खातिर
अपनी आखिरी सांस तक मैं।
मां का आचल , बहन की राखी
रोक नहीं पाएगी मुझे तुम्हारी रक्षा से।
क्योंकि वादा करा हैं मैंने तुम्हारी रक्षा का
अपने शहीद पिता जी से
तुम्हारे खातिर शहादत भी मुझे प्यारी है
क्योंकि जान से प्यारी मुझे तेरी खुशहाली है।

श्रीयांश गुप्ता✍

1 Like · 4 Comments · 327 Views
You may also like:
जरी ही...!
"अशांत" शेखर
मानव_शरीर_में_सप्तचक्रों_का_प्रभाव
Vikas Sharma'Shivaaya'
एक हरे भरे गुलशन का सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
** दर्द की दास्तान **
Dr. Alpa H. Amin
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण
कविता की महत्ता
Rj Anand Prajapati
जीवन मेला
DESH RAJ
मैं उनको शीश झुकाता हूँ
Dheerendra Panchal
आख़िरी मुलाक़ात ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
कालचक्र
"अशांत" शेखर
किताब।
Amber Srivastava
श्री अग्रसेन भागवत ः पुस्तक समीक्षा
Ravi Prakash
*संस्मरण : श्री गुरु जी*
Ravi Prakash
जो भी संजोग बने संभालो खुद को....
Dr. Alpa H. Amin
सजना शीतल छांव हैं सजनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
संघर्ष
Arjun Chauhan
सदा बढता है,वह 'नायक', अमल बन ताज ठुकराता|
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गौरैया बोली मुझे बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अभी तुम करलो मनमानियां।
Taj Mohammad
सीख
Pakhi Jain
जहां चाह वहां राह
ओनिका सेतिया 'अनु '
बेटी की मायका यात्रा
Ashwani Kumar Jaiswal
ग़ज़ल- कहां खो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नुमाइश बना दी तुने I
Dr.sima
आंखों में तुम मेरी सांसों में तुम हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
आरज़ू है बस ख़ुदा
Dr. Pratibha Mahi
बंद हैं भारत में विद्यालय.
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वर्षा
Vijaykumar Gundal
Loading...