Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2016 · 1 min read

सोच

कभी कभी सोचती हूं
भगवान सुनता है क्या
बहुत ही छोटी
होती है ये सोच
सोच में बहे आंसू भी
यूं ही कोई उंगली
क्यूं थाम लेता है
क्यूं संग संग किसी के
आंसू बहते हैं
क्यूं कोई तुम्हारी
फ़िक्र करता है
क्यूं कोई यूं ही
सर पर हाथ रख देता है
क्यूं कोई तुम्हे
तुमसे ज्यादा जान लेता है
यूं ही तो नहीं न
कहीं ये ही तो
भगवान नहीं होता ??

Language: Hindi
1 Like · 453 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
National YOUTH Day
National YOUTH Day
Tushar Jagawat
दूध बन जाता है पानी
दूध बन जाता है पानी
कवि दीपक बवेजा
मेरे जीवन में सबसे
मेरे जीवन में सबसे
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
नए दौर का भारत
नए दौर का भारत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"तब तुम क्या करती"
Lohit Tamta
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
Dr. Kishan Karigar
*किले में योगाभ्यास*
*किले में योगाभ्यास*
Ravi Prakash
ख़ुद को मुर्दा शुमार मत करना
ख़ुद को मुर्दा शुमार मत करना
Dr fauzia Naseem shad
कितनी भी हो खत्म हो
कितनी भी हो खत्म हो
Taj Mohammad
ये ऊँचे-ऊँचे पर्वत शिखरें,
ये ऊँचे-ऊँचे पर्वत शिखरें,
Buddha Prakash
कोशिश है खुद से बेहतर बनने की
कोशिश है खुद से बेहतर बनने की
Ansh Srivastava
■ धूर्तता का दौर है जी...
■ धूर्तता का दौर है जी...
*Author प्रणय प्रभात*
"कूँचे गरीब के"
Ekta chitrangini
जो माता पिता के आंखों में आसूं लाए,
जो माता पिता के आंखों में आसूं लाए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
अर्धांगिनी सु-धर्मपत्नी ।
अर्धांगिनी सु-धर्मपत्नी ।
Neelam Sharma
ऐ मौत
ऐ मौत
Ashwani Kumar Jaiswal
***कृष्णा ***
***कृष्णा ***
Kavita Chouhan
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
gurudeenverma198
हर तरफ़ आज दंगें लड़ाई हैं बस
हर तरफ़ आज दंगें लड़ाई हैं बस
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
जरासन्ध के पुत्रों ने
जरासन्ध के पुत्रों ने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शब्द -शब्द था बोलता,
शब्द -शब्द था बोलता,
sushil sarna
किताबे पढ़िए!!
किताबे पढ़िए!!
पूर्वार्थ
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
Sukoon
Bundeli Doha pratiyogita-149th -kujane
Bundeli Doha pratiyogita-149th -kujane
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
``बचपन```*
``बचपन```*
Naushaba Suriya
कौशल
कौशल
Dinesh Kumar Gangwar
सुख - डगर
सुख - डगर
Sandeep Pande
तेरे संग ये जिंदगी बिताने का इरादा था।
तेरे संग ये जिंदगी बिताने का इरादा था।
Surinder blackpen
हाथ पर हाथ धरे कुछ नही होता आशीर्वाद तो तब लगता है किसी का ज
हाथ पर हाथ धरे कुछ नही होता आशीर्वाद तो तब लगता है किसी का ज
Rj Anand Prajapati
यदि केवल बातों से वास्ता होता तो
यदि केवल बातों से वास्ता होता तो
Keshav kishor Kumar
Loading...