Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Nov 2023 · 1 min read

सोच का आईना

ग़ौर से ख़ुद को देख लो तुम भी ।
सोच का आईना भी होता है ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
3 Likes · 195 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
सबक ज़िंदगी पग-पग देती, इसके खेल निराले हैं।
सबक ज़िंदगी पग-पग देती, इसके खेल निराले हैं।
आर.एस. 'प्रीतम'
"अग्निपथ के राही"
Dr. Kishan tandon kranti
शमशान की राख देखकर मन में एक खयाल आया
शमशान की राख देखकर मन में एक खयाल आया
शेखर सिंह
हमारा देश भारत
हमारा देश भारत
surenderpal vaidya
काँच और पत्थर
काँच और पत्थर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कलानिधि
कलानिधि
Raju Gajbhiye
2865.*पूर्णिका*
2865.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं बड़ा ही खुशनसीब हूं,
मैं बड़ा ही खुशनसीब हूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सुख- दुःख
सुख- दुःख
Dr. Upasana Pandey
तू जो कहती प्यार से मैं खुशी खुशी कर जाता
तू जो कहती प्यार से मैं खुशी खुशी कर जाता
Kumar lalit
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
Neelam Sharma
तमन्ना है तू।
तमन्ना है तू।
Taj Mohammad
पाया तो तुझे, बूंद सा भी नहीं..
पाया तो तुझे, बूंद सा भी नहीं..
Vishal babu (vishu)
आ अब लौट चलें.....!
आ अब लौट चलें.....!
VEDANTA PATEL
इश्क़ में कोई
इश्क़ में कोई
लक्ष्मी सिंह
*******खुशी*********
*******खुशी*********
Dr. Vaishali Verma
नैनों में प्रिय तुम बसे....
नैनों में प्रिय तुम बसे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वक्त कि ये चाल अजब है,
वक्त कि ये चाल अजब है,
SPK Sachin Lodhi
खुद से ज्यादा अहमियत
खुद से ज्यादा अहमियत
Dr Manju Saini
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
Slok maurya "umang"
अब तो आ जाओ सनम
अब तो आ जाओ सनम
Ram Krishan Rastogi
सुख दुख
सुख दुख
Sûrëkhâ
इक तमन्ना थी
इक तमन्ना थी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मतदान 93 सीटों पर हो रहा है और बिकाऊ मीडिया एक जगह झुंड बना
मतदान 93 सीटों पर हो रहा है और बिकाऊ मीडिया एक जगह झुंड बना
*प्रणय प्रभात*
बेचारा प्रताड़ित पुरुष
बेचारा प्रताड़ित पुरुष
Manju Singh
पागल प्रेम
पागल प्रेम
भरत कुमार सोलंकी
और ज़रा भी नहीं सोचते हम
और ज़रा भी नहीं सोचते हम
Surinder blackpen
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
Shweta Soni
Loading...