Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2022 · 2 min read

सोच ऐसी रखो, जो बदल दे ज़िंदगी को ‘

वक़्त बदला और इस बदलते वक्त ने हमारी जिंदगी के मायने भी बदल के रख दिये है आज आलम यह है कि लोग जिंदगी को जी कम रहे है और गंवा ज़्यादा रहे है। बड़ी-बड़ी उम्मीदों की वजह से दिन-रात मशीन की तरह मेहनत कर रहे है और बदले में मिल रही है और न खत्म होने वाली थकन, ऐसी परिस्थितियों में हमारी सोच भी निराश्वादी हो जाए तो कोई दो राय नहीं । ऐसी परिस्थितियों में सकारात्मक सोच बस सोच बन के रह जाती है।
वास्तव में इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है कि हमारी जिंदगी में हमारी सोच कितना महत्व रखती है। इसका अंदाजा हम केवल इसी बात से भी लगा सकते हैं कि सकारात्मक सोच जहां हमारी जिंदगी को खुशियों से भर देती है, यहाँ नकारात्मक सोच हमारी खुशियों का अंत करने की महत्वपूर्ण वजह बन जाती है। बहरहाल इस साई को हम सभी को खुले दिल स्वीकार करना चाहिए कि दुनिया में कोई भी इंसान खुद में मुकम्मल नहीं है, किसी को कोई दुख है तो किसी को कोई तकलीफ किसी ने खोया है, तो यहाँ किसी ने कुछ गंवाया है, लेकिन इसका यह मतलब बिल्कुल नहीं होना चाहिए कि हम जीना छोड़ दें या ज़िंदगी के प्रति दृष्टिकोण ही नकारात्मक अपना लें। आपका हर विपरीत परिस्थिति में सकारात्मक दृष्टिकोण रहे इसके लिए कुछ बातों का रखे ।
* ध्यान रखें आपको नकारात्मक सोच आप में आत्मविश्वास की कमी को दर्शाती इसलिए यह आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप खुद को कैसे देखना चाहते हैं
* अपनी खूबियों को अपनी क्षमताओं को पहचाने और उन्हें सराहे समय-समय पर आत्मनिरीक्षण भी अवश्य करें।
* जिंदगी में दुख है तो खुशी भी होगी। हर हाल में सोच को सकारात्मक बनाये रखें।
* मन में नकारात्मक विचार प्रायः तभी आते है जब हम खाली होते हैं इसलिए जहां तक हो स्वयं को अपने मनपसंद कामों में व्यस्त रखें।
*ध्यान रखें नकारात्मक लोगों का साथ भी प्रायः आपकी सोच को भी नकारात्मक बना देता है। इसलिए पूरी कोशिश करें कि ऐसे लोग आपके नज़दीक न रहें।
*स्वयं को कभी हल्के में न लें अपना मूल्य पहचाने और अपना महत्व कभी कम न करें ऐसा करना भी आप में सकारात्मक सोच को उत्पन्न करेगा। स्वयं को दृष्टि से देखना भी प्रकार को उत्पन्न करने का प्रमुख कारण करता है।
*सकारात्मक सोच रखें स्वयं खुश रहे और दूसरों को भी रखें।
*सच्चाई को जाने बिना कभी किसी निर्णय पर न पहुंचे ।
*अपने नजरिये को अहमियत है लेकिन दूसरों को भी किसी भी हाल में नजरअंदाज न करे।
जिंदगी में जीत के साथ हार को भी खुले मन से स्वीकारने के लिए स्वयं को सदैव तैयार रखें।
*आपका किसी से महानुभूति पाने का भाव आप में आत्मविश्वास के अभाव को दर्शाता है।
*अपनी आलोचना से भयभीत होने के विपरीत उसका सामना करना सीखें।
*वक़्त-वक़्त पर अपना भी मूल्यांकन करते रहिए।
*कामयाब न होकर भी कामयाब होने का भाव स्वयं में उत्पन्न करें।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: लेख
10 Likes · 299 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
सब वर्ताव पर निर्भर है
सब वर्ताव पर निर्भर है
Mahender Singh
प्रणय 4
प्रणय 4
Ankita Patel
विषय- सत्य की जीत
विषय- सत्य की जीत
rekha mohan
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
ruby kumari
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
ललकार भारद्वाज
फितरत कभी नहीं बदलती
फितरत कभी नहीं बदलती
Madhavi Srivastava
माना मन डरपोक है,
माना मन डरपोक है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेम
प्रेम
Shyam Sundar Subramanian
पति मेरा मेरी जिंदगी का हमसफ़र है
पति मेरा मेरी जिंदगी का हमसफ़र है
VINOD CHAUHAN
किसी भी रूप में ढ़ालो ढ़लेगा प्यार से झुककर
किसी भी रूप में ढ़ालो ढ़लेगा प्यार से झुककर
आर.एस. 'प्रीतम'
दुःख  से
दुःख से
Shweta Soni
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏🙏
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"सफर"
Yogendra Chaturwedi
फ्लाइंग किस और धूम्रपान
फ्लाइंग किस और धूम्रपान
Dr. Harvinder Singh Bakshi
CUPID-STRUCK !
CUPID-STRUCK !
Ahtesham Ahmad
टेढ़ी ऊंगली
टेढ़ी ऊंगली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पतंग
पतंग
अलका 'भारती'
जो उनसे पूछा कि हम पर यक़ीं नहीं रखते
जो उनसे पूछा कि हम पर यक़ीं नहीं रखते
Anis Shah
आसमान को उड़ने चले,
आसमान को उड़ने चले,
Buddha Prakash
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हमारी सम्पूर्ण ज़िंदगी एक संघर्ष होती है, जिसमे क़दम-क़दम पर
हमारी सम्पूर्ण ज़िंदगी एक संघर्ष होती है, जिसमे क़दम-क़दम पर
SPK Sachin Lodhi
आज जिंदगी को प्रपोज़ किया और कहा -
आज जिंदगी को प्रपोज़ किया और कहा -
सिद्धार्थ गोरखपुरी
3055.*पूर्णिका*
3055.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हाय हाय रे कमीशन
हाय हाय रे कमीशन
gurudeenverma198
जिस दिन कविता से लोगों के,
जिस दिन कविता से लोगों के,
जगदीश शर्मा सहज
ठण्डी राख़ - दीपक नीलपदम्
ठण्डी राख़ - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ज़िंदगी तेरा
ज़िंदगी तेरा
Dr fauzia Naseem shad
मित्रता क्या है?
मित्रता क्या है?
Vandna Thakur
गौरैया बोली मुझे बचाओ
गौरैया बोली मुझे बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नशा
नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...