Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2016 · 1 min read

सोचती हूँ…..

सोचती हूँ
किसी दिन पी लूं
तुम्हारे होठों की मय
एक ही सांस में
और कूद जाऊं
तुम्हारी आँखों की
पनीली झील में
तुम पुकारो मुझे
मेरा नाम लेकर
और मैं घुल जाऊं
तुम्हारी साँसों की
गहरी नील में ….!
© डॉ प्रिया सूफ़ी

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 2 Comments · 376 Views
You may also like:
मौन
पीयूष धामी
नियत मे पर्दा
Vikas Sharma'Shivaaya'
मनमीत
लक्ष्मी सिंह
क्योंकि, हिंदुस्तान हैं हम !
Palak Shreya
*युगपुरुष महाराजा अग्रसेन*
Ravi Prakash
ग्रामीण चेतना के महाकवि रामइकबाल सिंह ‘राकेश
श्रीहर्ष आचार्य
मुकद्दर ने
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️दिल शायर होता है...✍️
'अशांत' शेखर
खींचो यश की लम्बी रेख
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️✍️प्रेम की राह पर-67✍️✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
करें नहीं ऐसे लालच हम
gurudeenverma198
मां
Ram Krishan Rastogi
"लाइलाज दर्द"
DESH RAJ
दिल बंजर कर दिया है।
Taj Mohammad
गज़ल सुलेमानी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पराधीन पक्षी की सोच
AMRESH KUMAR VERMA
धार्मिक कार्यक्रमों के नाम पर जबरदस्ती वसूली क्यों ?
Deepak Kohli
“" हिन्दी मे निहित हमारे संस्कार” "
Dr Meenu Poonia
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
सरसी छंद और विधाएं
Subhash Singhai
लोग आपन त सभे कहाते नू बा
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
धर्मांध भीड़ के ख़तरे
Shekhar Chandra Mitra
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:37
AJAY AMITABH SUMAN
आंखों में रात
Dr fauzia Naseem shad
समय का मोल
Pt Sarvesh Yadav
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
उड़ता बॉलीवुड
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल-ये चेहरा तो नूरानी है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...