Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2022 · 1 min read

सोए है जो कब्रों में।

चलों मिलते है आज पूराने लोगों से।
जो अपने ही है जाके सोए है कब्रों में।।1।।

सुकूँन ओ आराम में सब के सब है।
दुनियां की नजरो में है जो बेकद्रों से।।2।।

महफूज ना है आबरू अब कहीं ही।
इज्जत को डर है घरके ही दरिंदों से।।3।।

दीवाने है परेशां ना करो सवालों से ।।
हर बार ही जवाब दिया है नजरों से।।4।।

मोहबबत है हमको तुम्ही से सनम।
हमनें तो हमेशा कहा है इन लबों से।।5।।

पढ़ लेना जाकर किताबों खतों को।
मेरी चाहत के निशां होगे किताबो में।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

2 Comments · 302 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
जंग अहम की
जंग अहम की
Mamta Singh Devaa
नन्हीं सी प्यारी कोकिला
नन्हीं सी प्यारी कोकिला
जगदीश लववंशी
मंज़िल मिली उसी को इसी इक लगन के साथ
मंज़िल मिली उसी को इसी इक लगन के साथ
अंसार एटवी
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
विमला महरिया मौज
मजदूर
मजदूर
Preeti Sharma Aseem
घड़ी
घड़ी
SHAMA PARVEEN
जरूरी तो नहीं
जरूरी तो नहीं
Madhavi Srivastava
नशा त्याग दो
नशा त्याग दो
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
राह मे मुसाफिर तो हजार मिलते है!
राह मे मुसाफिर तो हजार मिलते है!
Bodhisatva kastooriya
" हर वर्ग की चुनावी चर्चा “
Dr Meenu Poonia
"बहुत दिनों से"
Dr. Kishan tandon kranti
भोर समय में
भोर समय में
surenderpal vaidya
कैसे हो हम शामिल, तुम्हारी महफ़िल में
कैसे हो हम शामिल, तुम्हारी महफ़िल में
gurudeenverma198
पुतलों का देश
पुतलों का देश
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
3129.*पूर्णिका*
3129.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अंदर मेरे रावण भी है, अंदर मेरे राम भी
अंदर मेरे रावण भी है, अंदर मेरे राम भी
पूर्वार्थ
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ अटल सौभाग्य के पर्व पर
■ अटल सौभाग्य के पर्व पर
*प्रणय प्रभात*
सुंदर नयन सुन बिन अंजन,
सुंदर नयन सुन बिन अंजन,
Satish Srijan
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जो गर्मी शीत वर्षा में भी सातों दिन कमाता था।
जो गर्मी शीत वर्षा में भी सातों दिन कमाता था।
सत्य कुमार प्रेमी
My Lord
My Lord
Kanchan Khanna
उत्तर नही है
उत्तर नही है
Punam Pande
" जुदाई "
Aarti sirsat
दिल में एहसास
दिल में एहसास
Dr fauzia Naseem shad
अष्टम कन्या पूजन करें,
अष्टम कन्या पूजन करें,
Neelam Sharma
*केवट (कुंडलिया)*
*केवट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मंगल मय हो यह वसुंधरा
मंगल मय हो यह वसुंधरा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...