Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2016 · 2 min read

‘सैनिक शासन आज लगा दो…’ : छंद लावनी

छंद लावनी
(मात्राएँ १६,१४)

आतंकी बुरहान और इन सबमें रिश्तेदारी है,
इस्लामिक कश्मीर बनाना, मकसद है तैयारी है.
लहू चूसकर जिस धरती का ये सब जीते मरते हैं,
उससे ही गद्दारी करते जोंक सरीखे लगते हैं.

पाकिस्तानी झंडा रखते, घाटी में लहराते हैं.
मां का आँचल जान तिरंगा, जो गद्दार जलाते हैं.
आई० एस० एजेंन्ट बने हैं, वो ही सारी घाटी में.
साफ़ किये कश्मीरी पंडित, मिला दिए हैं माटी में.

गद्दारी नस-नस में बहती, खानदान पहचाना है
कबायली हमला जब देखा, तब से सबने जाना है
ले हथियार मिले जा पुरखे, जिससे लड़ने भेजा था.
चूर चूर कर डाला उसको जो विश्वास सहेजा था.

अपनी रेजीमेट कहाँ है नेताजी ने पंक्ति पढी.
रेजीमेट बना तो देते, गद्दारी की भेंट चढ़ी.
पहले चार दमादों को बेटी के बदले छुड़वाया.
बाद पाँचवां बना मसर्रत, रिहा उसे भी करवाया.

उन सबको भी रिहा करेगें, बंद अभी जो जेलों में.
शामिल जो पत्थरबाजी में, कत्लगाह के मेलों में.
पोषक हैं अलगाववाद के दिल ही पाकिस्तानी है.
पाकिस्तान मिनी कहते हैं, इसमें क्या हैरानी है.

सेना और आरएसएस को जी भर के गरियाते हैं.
बाढ़ और भूकंप आपदा में बिल में घुस जाते हैं.
नाकारा सत्ता कश्मीरी, भलमनसी की शोषक है.
लहराए जो चाँद सितारा उसकी ही वह पोषक है.

चाहे कितना दूध पिला दो, ये समझेगें पानी है
टेढ़ी चाल चलेगें मिलकर, इसमें क्या हैरानी है.
धोखेबाजी पत्थरबाजी, आदत है परिपाटी है.
इनसे ही धरती की जन्नत, अब आतंकी घाटी है.

कश्मीरी पंडित जो बेघर उन्हें नहीं रोने देगें.
मुल्क बाँटने के कुचक्र को, सफल नहीं होने देगें.
संविधान आड़े जो आये, संशोधित अब उसे करो .
जागो! आज समय है आया, वोटनीति से नहीं डरो.

खून वतन का खौल रहा है, अब काली करतूतों पर.
सैनिक शासन आज लगा दो, इन बेशर्म कपूतों पर.
समझौते की नीति छोड़कर, मोदी जी इन्साफ करों.
या तो इनकी गर्दन बाँधो, या फिर मकसद साफ़ करो..

— इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

Language: Hindi
183 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पर्यावरण प्रतिभाग
पर्यावरण प्रतिभाग
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
वो तीर ए नजर दिल को लगी
वो तीर ए नजर दिल को लगी
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बिन फले तो
बिन फले तो
surenderpal vaidya
मंत्र  :  दधाना करपधाभ्याम,
मंत्र : दधाना करपधाभ्याम,
Harminder Kaur
माँ
माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चली चली रे रेलगाड़ी
चली चली रे रेलगाड़ी
Ashish Kumar
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
कवि रमेशराज
बारिश
बारिश
Sushil chauhan
मेरा लेख
मेरा लेख
Ankita Patel
2510.पूर्णिका
2510.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
♥️मां ♥️
♥️मां ♥️
Vandna thakur
खुश्क आँखों पे क्यूँ यकीं होता नहीं
खुश्क आँखों पे क्यूँ यकीं होता नहीं
sushil sarna
एहसास
एहसास
Shutisha Rajput
जन जन में खींचतान
जन जन में खींचतान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मुस्कुराओ तो सही
मुस्कुराओ तो सही
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
आलोचना
आलोचना
Shekhar Chandra Mitra
मैं नन्हा नन्हा बालक हूँ
मैं नन्हा नन्हा बालक हूँ
अशोक कुमार ढोरिया
गुरू शिष्य का संबन्ध
गुरू शिष्य का संबन्ध
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
करवाचौथ
करवाचौथ
Mukesh Kumar Sonkar
"Radiance of Purity"
Manisha Manjari
Bato ki garma garmi me
Bato ki garma garmi me
Sakshi Tripathi
स्पीड
स्पीड
Paras Nath Jha
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
*औपचारिकता*
*औपचारिकता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
वक़्त की फ़ितरत को
वक़्त की फ़ितरत को
Dr fauzia Naseem shad
पर्यावरण दिवस
पर्यावरण दिवस
Satish Srijan
तुम जिसे खुद से दूर करने की कोशिश करोगे उसे सृष्टि तुमसे मिल
तुम जिसे खुद से दूर करने की कोशिश करोगे उसे सृष्टि तुमसे मिल
Rashmi Ranjan
वो ज़माने चले गए
वो ज़माने चले गए
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
विकृत संस्कार पनपती बीज
विकृत संस्कार पनपती बीज
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...