Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2022 · 1 min read

ख्वाब

आए हो तुम ख्वाब में तो
थोड़ी देर ठहर जाओ
ख्वाब पुरे बुन लूँ मैं
इतनी देर तुम रुक जाओ।।

माना यह ख्वाब मेरा
सच नहीं हो सकता है
पर ख्वाब मे ठहर कर ही
तुम थोड़ी खुशी मुझे दे जाओं।।

उम्र गुजार दी मैंने
तेरे संग ख्वाब सजाने में
इस ख्वाब को बीच में तोड़कर
तुम मुझे दर्द न पहुँचाओ।।

माना देश तुम्हारा प्यार है
पर मेरे प्यार तो तुम हो
करो देश से तुम प्यार
मुझे जरा भी एतराज नही है।।

पर ख्वाब में आकर ही
तुम कभी- कभी मुझे भी
थोड़ी खुशी दे जाओ
ख्वाब पर हक मेरा रहने दो
तुम इसे न छिन कर ले जाओ।।

~ अनामिका

4 Likes · 4 Comments · 374 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
वक्त के आगे
वक्त के आगे
Sangeeta Beniwal
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
Shweta Soni
ज़माने की बुराई से खुद को बचाना बेहतर
ज़माने की बुराई से खुद को बचाना बेहतर
नूरफातिमा खातून नूरी
23/61.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/61.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राह बनाएं काट पहाड़
राह बनाएं काट पहाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
यह कौन सा विधान हैं?
यह कौन सा विधान हैं?
Vishnu Prasad 'panchotiya'
दिल का मासूम घरौंदा
दिल का मासूम घरौंदा
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
जय श्री राम
जय श्री राम
goutam shaw
ग़ज़ल _ छोटी सी ज़िंदगी की ,,,,,,🌹
ग़ज़ल _ छोटी सी ज़िंदगी की ,,,,,,🌹
Neelofar Khan
अश'आर
अश'आर
शालिनी राय 'डिम्पल'✍️
"यह आम रास्ता नहीं है"
Dr. Kishan tandon kranti
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*प्रणय प्रभात*
* मैं बिटिया हूँ *
* मैं बिटिया हूँ *
Mukta Rashmi
चॉकलेट
चॉकलेट
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
मैं विवेक शून्य हूँ
मैं विवेक शून्य हूँ
संजय कुमार संजू
किसी के साथ दोस्ती करना और दोस्ती को निभाना, किसी से मुस्कुर
किसी के साथ दोस्ती करना और दोस्ती को निभाना, किसी से मुस्कुर
Anand Kumar
"प्रेम कभी नफरत का समर्थक नहीं रहा है ll
पूर्वार्थ
*नव वर्ष पर सुबह पाँच बजे बधाई * *(हास्य कुंडलिया)*
*नव वर्ष पर सुबह पाँच बजे बधाई * *(हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मैं तो महज आवाज हूँ
मैं तो महज आवाज हूँ
VINOD CHAUHAN
दोहा पंचक. . . . प्रेम
दोहा पंचक. . . . प्रेम
sushil sarna
खूबसूरत पड़ोसन का कंफ्यूजन
खूबसूरत पड़ोसन का कंफ्यूजन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
धीरे धीरे उन यादों को,
धीरे धीरे उन यादों को,
Vivek Pandey
हरे हैं ज़ख़्म सारे सब्र थोड़ा और कर ले दिल
हरे हैं ज़ख़्म सारे सब्र थोड़ा और कर ले दिल
Meenakshi Masoom
मन होता है मेरा,
मन होता है मेरा,
Dr Tabassum Jahan
मतलब भरी दुनियां में जरा संभल कर रहिए,
मतलब भरी दुनियां में जरा संभल कर रहिए,
शेखर सिंह
ना जाने सुबह है या शाम,
ना जाने सुबह है या शाम,
Madhavi Srivastava
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इरशा
इरशा
ओंकार मिश्र
गज़ल
गज़ल
करन ''केसरा''
Loading...