Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2024 · 1 min read

सृष्टि का अंतिम सत्य प्रेम है

असंभव है प्रेम शब्द की व्याख्या
प्रकृति के कण-कण में प्रेम समाया
प्रेम शब्द का सार जगत में
कोई नहीं कह पाया
संपूर्ण जगत कोई और तुम्हारे
प्रेम और अनुराग का भागी
उतना ही तुम स्वयं भी हो
प्रीत परस्पर जग में जागी
प्रेम की ऊर्जा से ही प्रकृति
निरंतर पुष्पित पल्लवित फलित होती है
प्रत्येक रिश्ते में ऊर्जा प्रेम भाव की होती है
प्रेम वास्तविकता है जग की
सृष्टि का अंतिम सत्य है
समाहित है प्रकृति की भावनाएं
धरती पर जीवन नित्य है
प्रेम एक नदी है ऐसीं
जिसका अंतिम छोर नहीं
प्रेम है ईश्वर की डोर अनादि
रिश्ता कोई और नहीं
जिसने समझा मर्म प्रेम का
समझना कुछ और नहीं
प्रेम का भाव है अति सुकोमल
प्रेम बाहर दिखावा नहीं
विशिष्ट भाव है अंतर्मन का
सत्य ईमान समझ विश्वास आधार यही
पारदर्शिता और समर्पण
जीवन का सार्थक अंग यही
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

3 Likes · 80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
पेड़ और चिरैया
पेड़ और चिरैया
Saraswati Bajpai
द्वारिका गमन
द्वारिका गमन
Rekha Drolia
मां गोदी का आसन स्वर्ग सिंहासन💺
मां गोदी का आसन स्वर्ग सिंहासन💺
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
Sukoon
अब नहीं घूमता
अब नहीं घूमता
Shweta Soni
बारिश के गुण गाओ जी (बाल कविता)
बारिश के गुण गाओ जी (बाल कविता)
Ravi Prakash
छोड़ जाते नही पास आते अगर
छोड़ जाते नही पास आते अगर
कृष्णकांत गुर्जर
सरकारों के बस में होता हालतों को सुधारना तो अब तक की सरकारें
सरकारों के बस में होता हालतों को सुधारना तो अब तक की सरकारें
REVATI RAMAN PANDEY
वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई
वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
" SHOW MUST GO ON "
DrLakshman Jha Parimal
अगर आज किसी को परेशान कर रहे
अगर आज किसी को परेशान कर रहे
Ranjeet kumar patre
राम अवध के
राम अवध के
Sanjay ' शून्य'
अपना दिल
अपना दिल
Dr fauzia Naseem shad
यूँ तो समुंदर बेवजह ही बदनाम होता है
यूँ तो समुंदर बेवजह ही बदनाम होता है
'अशांत' शेखर
धानी चूनर
धानी चूनर
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जन्मदिन की शुभकामना
जन्मदिन की शुभकामना
Satish Srijan
रिश्तें मे मानव जीवन
रिश्तें मे मानव जीवन
Anil chobisa
देकर घाव मरहम लगाना जरूरी है क्या
देकर घाव मरहम लगाना जरूरी है क्या
Gouri tiwari
💐 *दोहा निवेदन*💐
💐 *दोहा निवेदन*💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
सियासत में आकर।
सियासत में आकर।
Taj Mohammad
जीत से बातचीत
जीत से बातचीत
Sandeep Pande
कर्म-धर्म
कर्म-धर्म
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
"विकल्प रहित"
Dr. Kishan tandon kranti
❤️🖤🖤🖤❤
❤️🖤🖤🖤❤
शेखर सिंह
।।  अपनी ही कीमत।।
।। अपनी ही कीमत।।
Madhu Mundhra Mull
In case you are more interested
In case you are more interested
Dhriti Mishra
*अज्ञानी की कलम से हमारे बड़े भाई जी प्रश्नोत्तर शायद पसंद आ
*अज्ञानी की कलम से हमारे बड़े भाई जी प्रश्नोत्तर शायद पसंद आ
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*क्रोध की गाज*
*क्रोध की गाज*
Buddha Prakash
2775. *पूर्णिका*
2775. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
😊संशोधित कविता😊
😊संशोधित कविता😊
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...