Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Dec 2023 · 1 min read

सृजन

टूटने से क्यों कर डरना
छूटने का भय क्यों करना
अंत ही तो आरंभ का प्रमाण है
टूट टूट बिखर क्यों मरना
टूट कर मिलता नव जीवन
होता है सुंदर सा सृजन

टूटो ज्यों है बूँद टूटती
बादल की बाहों से छूटती
कर पोर पोर धरा सराबोर
खेतिहर की दुआएँ लूटती
खनकी गेहूं की बाली ख़न खन
होता है सुंदर सा सृजन

जब भी कोई बीज टूटता
चीर धरा अंकुर वो फूटता
मिट्टी के नीचे जो टूटा फूटा
बन विटप विशाल व्योम चूमता
डोल रहे तरु कानन कानन
होता है सुंदर सा सृजन

टूटी जो गर्भ नाल की डोरी
अलग हो गई माँ से छोरी
रची गई फिर नई कहानी
चंदा मामा दूध कटोरी
शिशु का भू पर आगमन
होता है सुंदर सा सृजन

पत्ता जो टूटा डाल से
नव किसलय फूटे छाल से
अंबर से तारा जो टूटा
भाग्य चमक उठा भाल से
निश्चित नूतन का अनुगमन
होता है सुंदर सा सृजन

रेखांकन।रेखा
३०.१२.२३

Language: Hindi
133 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्त्री श्रृंगार
स्त्री श्रृंगार
विजय कुमार अग्रवाल
गुरु की महिमा
गुरु की महिमा
Ram Krishan Rastogi
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
मनोज कर्ण
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जीवन को सफल बनाने का तीन सूत्र : श्रम, लगन और त्याग ।
जीवन को सफल बनाने का तीन सूत्र : श्रम, लगन और त्याग ।
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मैकदे को जाता हूँ,
मैकदे को जाता हूँ,
Satish Srijan
* मुस्कुरा देना *
* मुस्कुरा देना *
surenderpal vaidya
सोच के रास्ते
सोच के रास्ते
Dr fauzia Naseem shad
सभी भगवान को प्यारे हो जाते हैं,
सभी भगवान को प्यारे हो जाते हैं,
Manoj Mahato
दोस्ती से हमसफ़र
दोस्ती से हमसफ़र
Seema gupta,Alwar
🌷 चंद अश'आर 🌷
🌷 चंद अश'आर 🌷
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*अच्छी आदत रोज की*
*अच्छी आदत रोज की*
Dushyant Kumar
सजाया जायेगा तुझे
सजाया जायेगा तुझे
Vishal babu (vishu)
उपेक्षित फूल
उपेक्षित फूल
SATPAL CHAUHAN
एक लड़का,
एक लड़का,
हिमांशु Kulshrestha
23/179.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/179.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
Manisha Manjari
चयन
चयन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पते की बात - दीपक नीलपदम्
पते की बात - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
😢मौजूदा दौर😢
😢मौजूदा दौर😢
*Author प्रणय प्रभात*
ऐ ख़ुदा इस साल कुछ नया कर दें
ऐ ख़ुदा इस साल कुछ नया कर दें
Keshav kishor Kumar
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
Basant Bhagawan Roy
"बहाव"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बदल चुका क्या समय का लय?
बदल चुका क्या समय का लय?
Buddha Prakash
राष्ट्र सेवा के मौनव्रती श्री सुरेश राम भाई
राष्ट्र सेवा के मौनव्रती श्री सुरेश राम भाई
Ravi Prakash
स्वतंत्रता की नारी
स्वतंत्रता की नारी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"अहङ्कारी स एव भवति यः सङ्घर्षं विना हि सर्वं लभते।
Mukul Koushik
Love whole heartedly
Love whole heartedly
Dhriti Mishra
जिंदगी में हर पल खुशियों की सौगात रहे।
जिंदगी में हर पल खुशियों की सौगात रहे।
Phool gufran
Loading...