Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2024 · 1 min read

सृजन तेरी कवितायें

जो तू लिखता,
किसके मन को भाती हैं।
सृजन तेरी कविताएं
क्या क्या गाती हैं।

हंसी ठिठोली करती हैं क्या?
पायल छम छम करती है क्या?
सुत संग जननी की लोरी है
या विरदावलि ही कोरी है।

वीरों की उपमा करती या,
खुद तलवार चलाती हैं?
सृजन तेरी कविताएं
क्या क्या गाती हैं?

मीठे सुर में कोई तराना,
गाया है क्या?
विरह राग सुन किसी का मन मुरझाया है क्या?
परदेसी घर आ सजनी को
हिय से अंग लगाया है क्या?

कभी कभी क्या
मंदिर चल कर जाती हैं।
सृजन तेरी कविताएं
क्या क्या गाती हैं।

सृजन तू क्या दरबारी है या,
कोइ स्वछंद विहारी है क्या?
ईश्वर का मनुहारी है क्या?
लिखता बारी बारी है क्या?

ले बंदूक तेरी कविताएं
क्या सरहद पर जाती हैं?
सृजन तेरी कविताएं
क्या क्या गाती हैं?

Language: Hindi
110 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
जरूरी बहुत
जरूरी बहुत
surenderpal vaidya
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
.......शेखर सिंह
.......शेखर सिंह
शेखर सिंह
"पहचानिए"
Dr. Kishan tandon kranti
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सूरज दादा ड्यूटी पर (हास्य कविता)
सूरज दादा ड्यूटी पर (हास्य कविता)
डॉ. शिव लहरी
मोहब्बत तो अब भी
मोहब्बत तो अब भी
Surinder blackpen
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
Rj Anand Prajapati
*जल-संकट (दोहे)*
*जल-संकट (दोहे)*
Ravi Prakash
लेखक
लेखक
Shweta Soni
3219.*पूर्णिका*
3219.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विजयनगरम के महाराजकुमार
विजयनगरम के महाराजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इंसानियत
इंसानियत
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*सवर्ण (उच्च जाति)और शुद्र नीच (जाति)*
*सवर्ण (उच्च जाति)और शुद्र नीच (जाति)*
Rituraj shivem verma
शराब खान में
शराब खान में
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
हमें ना शिकायत है आप सभी से,
हमें ना शिकायत है आप सभी से,
Dr. Man Mohan Krishna
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
सुनील कुमार
याद  में  ही तो जल रहा होगा
याद में ही तो जल रहा होगा
Sandeep Gandhi 'Nehal'
मुर्दा समाज
मुर्दा समाज
Rekha Drolia
क्या ये गलत है ?
क्या ये गलत है ?
Rakesh Bahanwal
एक दिन जब वो अचानक सामने ही आ गए।
एक दिन जब वो अचानक सामने ही आ गए।
सत्य कुमार प्रेमी
■ सर्वाधिक चोरी शब्द, भाव और चिंतन की होती है दुनिया में। हम
■ सर्वाधिक चोरी शब्द, भाव और चिंतन की होती है दुनिया में। हम
*Author प्रणय प्रभात*
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
Sakshi Tripathi
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
Ram Krishan Rastogi
" नेतृत्व के लिए उम्र बड़ी नहीं, बल्कि सोच बड़ी होनी चाहिए"
नेताम आर सी
देश आज 75वां गणतंत्र दिवस मना रहा,
देश आज 75वां गणतंत्र दिवस मना रहा,
पूर्वार्थ
कुछ यादें कालजयी कवि कुंवर बेचैन की
कुछ यादें कालजयी कवि कुंवर बेचैन की
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जमाने के रंगों में मैं अब यूॅ॑ ढ़लने लगा हूॅ॑
जमाने के रंगों में मैं अब यूॅ॑ ढ़लने लगा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
हर कभी ना माने
हर कभी ना माने
Dinesh Gupta
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
Sukoon
Loading...