Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2023 · 1 min read

सृजन के जन्मदिन पर

आज सृजन का जन्म दिन,
‘विश’ करे सकल मुहल्ला।
इतना नहीं हुआ जन्म पर,
जितना अब हो-हल्ला।

बचपन में सालगिरह पर,
करते केवल पूजा।
बाबू लड्डू बांटते,
और न उत्सव दूजा।

अब तो बड़ा जंजाल है,
जन्म दिवस पर भाई।
देवा पित्तर बिसरकर,
चारों तरफ बधाई।

चाहे कमाई शून्य हो,
फिर भी पार्टी होय ।
ऐसा उत्सव व्यर्थ है,
समझ न आवत कोय।

तड़क भड़क बेकार है
सांची कहे सृजन।
सारे झंझट छोड़ कर,
करिए राम भजन।

राम के आशीर्वाद से,
बनेगे सारे काम।
साँचा उत्सव है यही,
बन कौड़ी बिन दाम।

जन्म पर दाता पूजिये,
जीवन हो निर्भय।
उत्सव करो पर बोलकर,
सियापति राम चन्द्र की जय।

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 359 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
हे प्रभू !
हे प्रभू !
Shivkumar Bilagrami
........,!
........,!
शेखर सिंह
सृष्टि का अंतिम सत्य प्रेम है
सृष्टि का अंतिम सत्य प्रेम है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺
subhash Rahat Barelvi
वर्तमान के युवा शिक्षा में उतनी रुचि नहीं ले रहे जितनी वो री
वर्तमान के युवा शिक्षा में उतनी रुचि नहीं ले रहे जितनी वो री
Rj Anand Prajapati
2664.*पूर्णिका*
2664.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-421💐
💐प्रेम कौतुक-421💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जय महादेव
जय महादेव
Shaily
13, हिन्दी- दिवस
13, हिन्दी- दिवस
Dr Shweta sood
फाल्गुन वियोगिनी व्यथा
फाल्गुन वियोगिनी व्यथा
Er.Navaneet R Shandily
सफलता
सफलता
Vandna Thakur
मैं उसको जब पीने लगता मेरे गम वो पी जाती है
मैं उसको जब पीने लगता मेरे गम वो पी जाती है
कवि दीपक बवेजा
■ आज मेरे ज़मीं पर नहीं हैं क़दम।।😊😊
■ आज मेरे ज़मीं पर नहीं हैं क़दम।।😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
सोचके बत्तिहर बुत्ताएल लोकके व्यवहार अंधा होइछ, ढल-फुँनगी पर
सोचके बत्तिहर बुत्ताएल लोकके व्यवहार अंधा होइछ, ढल-फुँनगी पर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
👸कोई हंस रहा, तो कोई रो रहा है💏
👸कोई हंस रहा, तो कोई रो रहा है💏
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
यही प्रार्थना राखी के दिन, करती है तेरी बहिना
यही प्रार्थना राखी के दिन, करती है तेरी बहिना
gurudeenverma198
रक्षा है उस मूल्य की,
रक्षा है उस मूल्य की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कातिल
कातिल
Dr. Kishan tandon kranti
गीत..
गीत..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
Vishal babu (vishu)
#जयहिंद
#जयहिंद
Rashmi Ranjan
“कब मानव कवि बन जाता हैं ”
“कब मानव कवि बन जाता हैं ”
Rituraj shivem verma
धंधा चोखा जानिए, राजनीति का काम( कुंडलिया)
धंधा चोखा जानिए, राजनीति का काम( कुंडलिया)
Ravi Prakash
लेखनी
लेखनी
Prakash Chandra
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
Basant Bhagawan Roy
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
Atul "Krishn"
बाइस्कोप मदारी।
बाइस्कोप मदारी।
Satish Srijan
महिला दिवस
महिला दिवस
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
Tushar Singh
Loading...