Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2022 · 1 min read

सृजन कर्ता है पिता।

सृजन कर्ता है पिता,,,
विघ्न हर्ता है पिता।।
मिलते है जो भी घाव,,,
उनको भरता है पिता।।

पुत्र का पालन हारा है,,,
हर विपत्ति में सहारा है।।
पुत्र कुपुत्र कैसा भी हो,,,
पिता को होता गंवारा है।।

पिता थकान में सुकून है,,,
पिता का ज्ञान जुनून है।।
पिता के स्नेह प्रेम से,,,
कोई पुत्र ना मरहूम है।।

पिता पुत्र में संस्कार है,,,
पिता जीवन का आधार है।।
पुत्र की सफलता ही होती,,,
पिता के गुणों का विस्तार है।।

पिता ब्रह्मा, विष्णु, महेश है,,,
पिता सृष्टि पर ईश्वर का रूप है।।
पुत्र ह्रदय को खुशियों से भर दे,,,
पिता पृथ्वी लोक पर देवदूत है।।

पुत्र होता पिता की जान है,,,
पिता, पुत्र का अभिमान है।।
यदि ना हो पिता जीवन में,,,
तो पुत्र का जीवन वीरान है।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

8 Likes · 10 Comments · 310 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
चौखट पर जलता दिया और यामिनी, अपलक निहार रहे हैं
चौखट पर जलता दिया और यामिनी, अपलक निहार रहे हैं
पूर्वार्थ
बिटिया की जन्मकथा / मुसाफ़िर बैठा
बिटिया की जन्मकथा / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
आप मुझको
आप मुझको
Dr fauzia Naseem shad
वक्त हो बुरा तो …
वक्त हो बुरा तो …
sushil sarna
जिंदगी की सांसे
जिंदगी की सांसे
Harminder Kaur
Intakam hum bhi le sakte hai tujhse,
Intakam hum bhi le sakte hai tujhse,
Sakshi Tripathi
अटल-अवलोकन
अटल-अवलोकन
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
2849.*पूर्णिका*
2849.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
~~🪆 *कोहबर* 🪆~~
~~🪆 *कोहबर* 🪆~~
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
Quote...
Quote...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ए कुदरत के बंदे ,तू जितना तन को सुंदर रखे।
ए कुदरत के बंदे ,तू जितना तन को सुंदर रखे।
Shutisha Rajput
ना ढूंढ मोहब्बत बाजारो मे,
ना ढूंढ मोहब्बत बाजारो मे,
शेखर सिंह
कितना खाली खालीपन है !
कितना खाली खालीपन है !
Saraswati Bajpai
चलो आज कुछ बात करते है
चलो आज कुछ बात करते है
Rituraj shivem verma
सुकून
सुकून
अखिलेश 'अखिल'
■ eye opener...
■ eye opener...
*Author प्रणय प्रभात*
"अगर हो वक़्त अच्छा तो सभी अपने हुआ करते
आर.एस. 'प्रीतम'
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
वक्त लगता है
वक्त लगता है
Vandna Thakur
"अकेलापन की खुशी"
Pushpraj Anant
कीमती
कीमती
Naushaba Suriya
"सुबह की किरणें "
Yogendra Chaturwedi
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
देता है अच्छा सबक़,
देता है अच्छा सबक़,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*पहले-पहल पिलाई मदिरा, हॅंसी-खेल में पीता है (हिंदी गजल)*
*पहले-पहल पिलाई मदिरा, हॅंसी-खेल में पीता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
बेटी नहीं उपहार हैं खुशियों का संसार हैं
बेटी नहीं उपहार हैं खुशियों का संसार हैं
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
सुनो, मैं जा रही हूं
सुनो, मैं जा रही हूं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
"शब्दों की सार्थकता"
Dr. Kishan tandon kranti
उम्रभर
उम्रभर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...