Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Nov 2023 · 1 min read

सूर्य अराधना और षष्ठी छठ पर्व के समापन पर प्रकृति रानी यह सं

सूर्य अराधना और षष्ठी छठ पर्व के समापन पर प्रकृति रानी यह संदेश दे गई : मेरे प्राण प्यारे जीव नई ऊर्जा महशूस कर ।तन मन जन को स्वच्छ रख देश धर्म आस्था विकास में सकारात्मक भाव संचार करें ‘
टी.पी. तरुण

152 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
सरल मिज़ाज से किसी से मिलो तो चढ़ जाने पर होते हैं अमादा....
सरल मिज़ाज से किसी से मिलो तो चढ़ जाने पर होते हैं अमादा....
कवि दीपक बवेजा
■आज का सवाल■
■आज का सवाल■
*Author प्रणय प्रभात*
प्रश्चित
प्रश्चित
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
समय का एक ही पल किसी के लिए सुख , किसी के लिए दुख , किसी के
समय का एक ही पल किसी के लिए सुख , किसी के लिए दुख , किसी के
Seema Verma
सफलता
सफलता
Babli Jha
💐अज्ञात के प्रति-111💐
💐अज्ञात के प्रति-111💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"बाजरे का जायका"
Dr Meenu Poonia
अच्छा लगने लगा है !!
अच्छा लगने लगा है !!
गुप्तरत्न
क्यों तुमने?
क्यों तुमने?
Dr. Meenakshi Sharma
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*सौ वर्षों तक जीना अपना, अच्छा तब कहलाएगा (हिंदी गजल)*
*सौ वर्षों तक जीना अपना, अच्छा तब कहलाएगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
आसमाँ के अनगिनत सितारों मे टिमटिमाना नहीं है मुझे,
आसमाँ के अनगिनत सितारों मे टिमटिमाना नहीं है मुझे,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
ज्यों ही धरती हो जाती है माता
ज्यों ही धरती हो जाती है माता
ruby kumari
शोख लड़की
शोख लड़की
Ghanshyam Poddar
अधरों ने की  दिल्लगी, अधरों  से  कल  रात ।
अधरों ने की दिल्लगी, अधरों से कल रात ।
sushil sarna
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
घर की रानी
घर की रानी
Kanchan Khanna
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
कृष्णकांत गुर्जर
आखिरी दिन होगा वो
आखिरी दिन होगा वो
shabina. Naaz
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अजी सुनते हो मेरे फ्रिज में टमाटर भी है !
अजी सुनते हो मेरे फ्रिज में टमाटर भी है !
Anand Kumar
विश्वास
विश्वास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
गजेन्द्र गजुर ( Gajendra Gajur )
क्या विरासत में
क्या विरासत में
Dr fauzia Naseem shad
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
*कमबख़्त इश्क़*
*कमबख़्त इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुस्कुराहट
मुस्कुराहट
Santosh Shrivastava
3011.*पूर्णिका*
3011.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शायरी संग्रह
शायरी संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
Loading...