Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2024 · 1 min read

सूरज

सूरज!
कहाॅं जा छिपे हो तुम?
क्या किसी अंधेरी गुफा में?
कैसे खोजूं तुम्हे?
यह शरारत अच्छी नहीं।
प्रकृति में सब त्रस्त,
कितना कुछ अस्त- व्यस्त।
लौट आओ शीघ्र ही,
देखो सब है प्रतीक्षारत।
कहीं किसी ने तुम्हें
कैद तो नहीं कर दिया?
बादलों की कारा में
पर यह मुमकिन नहीं।
किसकी हिम्मत
सहे तुम्हारे तीखे तेवर।
लिख रहे हैं एक खत,
पढ़ते ही चले आना।
रूठना छोड़कर,
अहम् को तोड़कर,
प्यार का परस पाना।
पुलकित हो उठोगे तुम,
देखकर मनुहार।
कितनी बेसब्री से
कर रहे हैं हम,
तुम्हारा इंतजार।
बहुत खेल हुआ,
अब बस करो।
आ भी जाओ यार,
लेकर सुनहरी
धूप का उपहार।

—प्रतिभा आर्य
चेतन एनक्लेव ,
अलवर(राजस्थान)

Language: Hindi
4 Likes · 1 Comment · 433 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
View all
You may also like:
वो मुझे प्यार नही करता
वो मुझे प्यार नही करता
Swami Ganganiya
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
Mahender Singh
■ महसूस करें तो...
■ महसूस करें तो...
*प्रणय प्रभात*
पाप पंक पर बैठ कर ,
पाप पंक पर बैठ कर ,
sushil sarna
आज यूँ ही कुछ सादगी लिख रही हूँ,
आज यूँ ही कुछ सादगी लिख रही हूँ,
Swara Kumari arya
आत्मा
आत्मा
Bodhisatva kastooriya
गुरु असीम ज्ञानों का दाता 🌷🙏
गुरु असीम ज्ञानों का दाता 🌷🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
धूमिल होती पत्रकारिता
धूमिल होती पत्रकारिता
अरशद रसूल बदायूंनी
सागर की हिलोरे
सागर की हिलोरे
SATPAL CHAUHAN
मेरे प्रेम की सार्थकता को, सवालों में भटका जाती हैं।
मेरे प्रेम की सार्थकता को, सवालों में भटका जाती हैं।
Manisha Manjari
रिश्तों के
रिश्तों के
Dr fauzia Naseem shad
हरियर जिनगी म सजगे पियर रंग
हरियर जिनगी म सजगे पियर रंग
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
संसार एक जाल
संसार एक जाल
Mukesh Kumar Sonkar
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
Subhash Singhai
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रमेश कुमार जैन ,उनकी पत्रिका रजत और विशाल आयोजन
रमेश कुमार जैन ,उनकी पत्रिका रजत और विशाल आयोजन
Ravi Prakash
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
Rj Anand Prajapati
आत्मा की शांति
आत्मा की शांति
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
खोटे सिक्कों के जोर से
खोटे सिक्कों के जोर से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
कवि रमेशराज
वाह भाई वाह
वाह भाई वाह
gurudeenverma198
जो तुम्हारी ख़ामोशी से तुम्हारी तकलीफ का अंदाजा न कर सके उसक
जो तुम्हारी ख़ामोशी से तुम्हारी तकलीफ का अंदाजा न कर सके उसक
ख़ान इशरत परवेज़
3410⚘ *पूर्णिका* ⚘
3410⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
प्रार्थना (मधुमालती छन्द)
प्रार्थना (मधुमालती छन्द)
नाथ सोनांचली
अन्तर्राष्टीय मज़दूर दिवस
अन्तर्राष्टीय मज़दूर दिवस
सत्य कुमार प्रेमी
आगमन राम का सुनकर फिर से असुरों ने उत्पात किया।
आगमन राम का सुनकर फिर से असुरों ने उत्पात किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बुढ़िया काकी बन गई है स्टार
बुढ़िया काकी बन गई है स्टार
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मदनोत्सव
मदनोत्सव
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अद्यावधि शिक्षा मां अनन्तपर्यन्तं नयति।
अद्यावधि शिक्षा मां अनन्तपर्यन्तं नयति।
शक्ति राव मणि
इंसान भी बड़ी अजीब चीज है।।
इंसान भी बड़ी अजीब चीज है।।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
Loading...