Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2024 · 2 min read

सूरज नहीं थकता है

सूरज को चैन कहां, आराम कहां, अभिमान कहां?
जहां भी रहता है, रैन कहां, रात कहां,अंधकार कहां?
उसे पता है, आगे और जाना है अभी कहां- कहां?
कभी उत्तरायण होता है, कभी दक्षिणायन होता है
पूरब से निकलता है, पश्चिम में जाकर छिप जाता है
एक क्षितिज से निकल , दूसरे क्षितिज को जाता है।

सूरज को चैन कहां, आराम कहां, अभिमान कहां
हम सोएं रहते हैं, खिड़की से वह झांकने लगता है
गरीबों के छप्पर के छेदों से उन्हें वह जगाने आता है
“उठो -उठो, जागो- जागो अग्रसर हो, वह कहता है”
कुछ करों, करने में लगो, व्यर्थ क्यों तुम सोते हो
बहुत हुआ आराम,अब काम करों, कर्म ही जीवन है।

वह तो आपेक्षिक रूप से स्थिर है, पर उसमें भी गति है
पृथ्वी चलती है, अपनी धुरी पर अविराम घूमती भी है
पृथ्वी चलती है घूम कर फिर अपनी जगह आती भी है
सूरज के प्रभा से तम तिरोहित, चांद मद्धम होता है
असंख्य सितारें अदृश्य हो आकाश में छिप जाते हैं
तुम्हारे आने से जग और जगत आलोकित हो जाते हैं ।

हे सर्व शक्तिमान! हे प्रकृति के पौरुष ! हे दिनमान !
रश्मि- रथ लेकर सात घोड़े पर सवार धरती पर आते हो
आदित्य एल-1 रहस्यों का पता लगाने भारत ने भेजा है
कितनी गर्मी कितनी करने तुम्हारे छाती में समाया है?
जिस दिन तुम मुसाफिर/ पथिक की तरह थक जाओगे
न रहेगा जीवन, हवा, पानी, पर्यावरण कहां रह पाएगा।

सूरज को चैन कहां ,आराम कहां, अभिमान कहां ।
जहां भी रहता है, रैन कहां, रात कहां, अभिमान कहां।
,*********************”**************
@मौलिक रचना घनश्याम पोद्दार
मुंगेर

Language: Hindi
48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#विभाजन_विभीषिका_स्मृति_दिवस
#विभाजन_विभीषिका_स्मृति_दिवस
Ravi Prakash
पढ़ते है एहसासों को लफ्जो की जुबानी...
पढ़ते है एहसासों को लफ्जो की जुबानी...
पूर्वार्थ
कविता
कविता
Shiva Awasthi
बिन मांगे ही खुदा ने भरपूर दिया है
बिन मांगे ही खुदा ने भरपूर दिया है
हरवंश हृदय
मोहि मन भावै, स्नेह की बोली,
मोहि मन भावै, स्नेह की बोली,
राकेश चौरसिया
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
■ कटाक्ष
■ कटाक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
पर्यावरण दिवस पर विशेष गीत
पर्यावरण दिवस पर विशेष गीत
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
घर वापसी
घर वापसी
Aman Sinha
"जब मानव कवि बन जाता हैं "
Slok maurya "umang"
Maturity is not when we start observing , judging or critici
Maturity is not when we start observing , judging or critici
Leena Anand
नई शुरुआत
नई शुरुआत
Neeraj Agarwal
राज़ की बात
राज़ की बात
Shaily
चाय बस चाय हैं कोई शराब थोड़ी है।
चाय बस चाय हैं कोई शराब थोड़ी है।
Vishal babu (vishu)
कैसा दौर है ये क्यूं इतना शोर है ये
कैसा दौर है ये क्यूं इतना शोर है ये
Monika Verma
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
Sahil Ahmad
"चढ़ती उमर"
Dr. Kishan tandon kranti
नारी वो…जो..
नारी वो…जो..
Rekha Drolia
हम पर ही नहीं
हम पर ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
उत्कृष्ट सृजना ईश्वर की, नारी सृष्टि में आई
उत्कृष्ट सृजना ईश्वर की, नारी सृष्टि में आई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दुनिया तभी खूबसूरत लग सकती है
दुनिया तभी खूबसूरत लग सकती है
ruby kumari
पद्मावती पिक्चर के बहाने
पद्मावती पिक्चर के बहाने
Manju Singh
💐अज्ञात के प्रति-29💐
💐अज्ञात के प्रति-29💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🚩 वैराग्य
🚩 वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ढलता सूरज गहराती लालिमा देती यही संदेश
ढलता सूरज गहराती लालिमा देती यही संदेश
Neerja Sharma
माँ मुझे जवान कर तू बूढ़ी हो गयी....
माँ मुझे जवान कर तू बूढ़ी हो गयी....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वर्षा
वर्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गुज़रा हुआ वक्त
गुज़रा हुआ वक्त
Surinder blackpen
"ऐसा है अपना रिश्ता "
Yogendra Chaturwedi
अंतहीन प्रश्न
अंतहीन प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
Loading...