Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2024 · 1 min read

* सुहाती धूप *

** नवगीत **
~~
सर्दी के मौसम में देखो
सबको खूब सुहाती धूप

श्वेत दुधिया रंग लिए
धुंध पड़ी हर ओर
शीतलता से हो रहा
कंपित है हर छोर
सहसा ही राहत बन आती
और मंद मंद मुसुकाती
सबके घर आँगन बगिया में
जैसे ही खिल जाती धूप

सर्दी के मौसम में देखो
सबको खूब सुहाती धूप

घर के अंदर लोग सभी
रहने को मजबूर
कैद नहीं भाती उनको
सुविधा में भरपूर
ऐसे में उन्मुक्त भाव भर
हर कोने में गर्माहट कर
हर बोझल मन की खुशियों को
सहसा ही सहलाती धूप

सर्दी के मौसम में देखो
सबको खूब सुहाती धूप
~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य

1 Like · 1 Comment · 64 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मैं तो महज शराब हूँ
मैं तो महज शराब हूँ
VINOD CHAUHAN
* हाथ मलने लगा *
* हाथ मलने लगा *
surenderpal vaidya
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
अमूक दोस्त ।
अमूक दोस्त ।
SATPAL CHAUHAN
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
गुप्तरत्न
मेरे भोले भण्डारी
मेरे भोले भण्डारी
Dr. Upasana Pandey
चुनिंदा बाल कविताएँ (बाल कविता संग्रह)
चुनिंदा बाल कविताएँ (बाल कविता संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"तेरे बारे में"
Dr. Kishan tandon kranti
ईमानदारी. . . . . लघुकथा
ईमानदारी. . . . . लघुकथा
sushil sarna
जब पीड़ा से मन फटता है
जब पीड़ा से मन फटता है
पूर्वार्थ
ସେହି କୁକୁର
ସେହି କୁକୁର
Otteri Selvakumar
क्या खोकर ग़म मनाऊ, किसे पाकर नाज़ करूँ मैं,
क्या खोकर ग़म मनाऊ, किसे पाकर नाज़ करूँ मैं,
Chandrakant Sahu
आखिर क्यूं?
आखिर क्यूं?
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
जीवन में सफल होने
जीवन में सफल होने
Dr.Rashmi Mishra
परमूल्यांकन की न हो
परमूल्यांकन की न हो
Dr fauzia Naseem shad
जय मातु! ब्रह्मचारिणी,
जय मातु! ब्रह्मचारिणी,
Neelam Sharma
*बड़ मावसयह कह रहा ,बरगद वृक्ष महान ( कुंडलिया )*
*बड़ मावसयह कह रहा ,बरगद वृक्ष महान ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
प्राणवल्लभा 2
प्राणवल्लभा 2
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
- अब नहीं!!
- अब नहीं!!
Seema gupta,Alwar
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
Damini Narayan Singh
गर समझते हो अपने स्वदेश को अपना घर
गर समझते हो अपने स्वदेश को अपना घर
ओनिका सेतिया 'अनु '
अब तो इस वुज़ूद से नफ़रत होने लगी मुझे।
अब तो इस वुज़ूद से नफ़रत होने लगी मुझे।
Phool gufran
मेरे कान्हा
मेरे कान्हा
umesh mehra
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
🙅ओनली पूछिंग🙅
🙅ओनली पूछिंग🙅
*प्रणय प्रभात*
तथाकथित धार्मिक बोलबाला झूठ पर आधारित है
तथाकथित धार्मिक बोलबाला झूठ पर आधारित है
Mahender Singh
अल्फाज़
अल्फाज़
Shweta Soni
आँखों से गिराकर नहीं आँसू तुम
आँखों से गिराकर नहीं आँसू तुम
gurudeenverma198
Loading...