Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Aug 2023 · 1 min read

तुकबन्दी,

सुर लय साज में हो पाबन्दी,
गीत काव्य यदि न तुकबन्दी।
बात करो न खाली पीली,
तुकबन्दी नहीं है मामूली।

तुकबन्दी जब साज में होती,
कर्णप्रिय आवाज में होती।
तुकबन्दी ही गाना बनता,
कोई मधुर तराना बनता।

तुलसी सुर कबीर ने गाई,
तुकबन्दी दोहा चौपाई।
तुकबन्दी में स्तुति होती,
अभिव्यक्ती में प्रस्तुत होती।

तुकबन्दी दरबार सजाया,
बरदाई जगनिक ने गाया।
तुकबन्दी न महज एक शोर,
लता सुरैया रफी, किशोर।

तुकबन्दी हो तो सब प्यारा,
तुकबन्दी से बनता नारा।
तुकबन्दी का करो सम्मान,
तुकबन्दी में है राष्ट्रगान।

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 205 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
गुरु पूर्णिमा
गुरु पूर्णिमा
Radhakishan R. Mundhra
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कवि दीपक बवेजा
धर्म और सिध्दांत
धर्म और सिध्दांत
Santosh Shrivastava
सफ़र
सफ़र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मनवा मन की कब सुने,
मनवा मन की कब सुने,
sushil sarna
काली हवा ( ये दिल्ली है मेरे यार...)
काली हवा ( ये दिल्ली है मेरे यार...)
Manju Singh
यादों के जंगल में
यादों के जंगल में
Surinder blackpen
*दायरे*
*दायरे*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेटी की शादी
बेटी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
उदासी एक ऐसा जहर है,
उदासी एक ऐसा जहर है,
लक्ष्मी सिंह
सौंदर्य मां वसुधा की🙏
सौंदर्य मां वसुधा की🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
फूल,पत्ते, तृण, ताल, सबकुछ निखरा है
फूल,पत्ते, तृण, ताल, सबकुछ निखरा है
Anil Mishra Prahari
*हाथ में पिचकारियाँ हों, रंग और गुलाल हो (मुक्तक)*
*हाथ में पिचकारियाँ हों, रंग और गुलाल हो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
परेशानियों का सामना
परेशानियों का सामना
Paras Nath Jha
भोग कामना - अंतहीन एषणा
भोग कामना - अंतहीन एषणा
Atul "Krishn"
अजनबी सा लगता है मुझे अब हर एक शहर
अजनबी सा लगता है मुझे अब हर एक शहर
'अशांत' शेखर
"अन्दाज"
Dr. Kishan tandon kranti
कैसे एक रिश्ता दरकने वाला था,
कैसे एक रिश्ता दरकने वाला था,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
তুমি এলে না
তুমি এলে না
goutam shaw
■ दुनियादारी की पिच पर क्रिकेट जैसा ही तो है इश्क़। जैसी बॉल,
■ दुनियादारी की पिच पर क्रिकेट जैसा ही तो है इश्क़। जैसी बॉल,
*Author प्रणय प्रभात*
दर्द अपना संवार
दर्द अपना संवार
Dr fauzia Naseem shad
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
You never know when the prolixity of destiny can twirl your
You never know when the prolixity of destiny can twirl your
Sukoon
अनजान राहें अनजान पथिक
अनजान राहें अनजान पथिक
SATPAL CHAUHAN
खुद से भी सवाल कीजिए
खुद से भी सवाल कीजिए
Mahetaru madhukar
कभी फुरसत मिले तो पिण्डवाड़ा तुम आवो
कभी फुरसत मिले तो पिण्डवाड़ा तुम आवो
gurudeenverma198
खूब रोता मन
खूब रोता मन
Dr. Sunita Singh
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
पूर्वार्थ
प्रकृति हर पल आपको एक नई सीख दे रही है और आपकी कमियों और खूब
प्रकृति हर पल आपको एक नई सीख दे रही है और आपकी कमियों और खूब
Rj Anand Prajapati
“सभी के काम तुम आओ”
“सभी के काम तुम आओ”
DrLakshman Jha Parimal
Loading...