Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Oct 2016 · 1 min read

सुरभि,सुभद्रा,नन्दा,बहुला,सुशीला :: जितेंद्रकमलआनंद (१२३)

घनाक्षरी :: गौ माता
———————–
सुरभि, सुभद्रा,नन्दा,बहुला,सुशीला गायें–
क्षीर- सिंधु– मंथन से लिए| अवतार| है ।
जो हैं चन्द्र, रवि और इन्द्र की भी इष्ट शक्ति,
करते उन्हें भी हम निशिदिन प्यार हैं ।
पावन- भावन हैं ” गौ” नाम ओम तुल्यनीया,
अंग– अंग देव रमेंकरें चमत्कार हैं ।
चतुर्मुख ब्रह्मा जी की आत्म– शक्ति रूपा को भी ,
करते बारम्बार सदैव नमस्कार हैं ।।

—- जितेन्द्र कमल आनंद
मंगल भवन, सॉई कालोनी के पास , रामपुर–२४४९०१

Language: Hindi
570 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*बिल्ली मौसी हैं बीमार (बाल कविता)*
*बिल्ली मौसी हैं बीमार (बाल कविता)*
Ravi Prakash
आखिरी दिन होगा वो
आखिरी दिन होगा वो
shabina. Naaz
चला रहें शिव साइकिल
चला रहें शिव साइकिल
लक्ष्मी सिंह
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
गुड़िया
गुड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ सामयिक व्यंग्य
■ सामयिक व्यंग्य
*Author प्रणय प्रभात*
तेरी मुहब्बत से, अपना अन्तर्मन रच दूं।
तेरी मुहब्बत से, अपना अन्तर्मन रच दूं।
Anand Kumar
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
Aman Kumar Holy
मेरी सरलता की सीमा कोई नहीं जान पाता
मेरी सरलता की सीमा कोई नहीं जान पाता
Pramila sultan
रे ज़िन्दगी
रे ज़िन्दगी
Jitendra Chhonkar
2480.पूर्णिका
2480.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हमारा प्रेम
हमारा प्रेम
अंजनीत निज्जर
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
नम्रता
नम्रता
ओंकार मिश्र
संसद को जाती सड़कें
संसद को जाती सड़कें
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
#बह_रहा_पछुआ_प्रबल, #अब_मंद_पुरवाई!
#बह_रहा_पछुआ_प्रबल, #अब_मंद_पुरवाई!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
" सत कर्म"
Yogendra Chaturwedi
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
" चलन "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
प्रेम ईश्वर प्रेम अल्लाह
प्रेम ईश्वर प्रेम अल्लाह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिज्ञासा और प्रयोग
जिज्ञासा और प्रयोग
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वेलेंटाइन डे की प्रासंगिकता
वेलेंटाइन डे की प्रासंगिकता
मनोज कर्ण
शिक्षक हूँ  शिक्षक ही रहूँगा
शिक्षक हूँ शिक्षक ही रहूँगा
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
“प्यार तुम दे दो”
“प्यार तुम दे दो”
DrLakshman Jha Parimal
लहर
लहर
Shyam Sundar Subramanian
किसी का यकीन
किसी का यकीन
Dr fauzia Naseem shad
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
छिपकली बन रात को जो, मस्त कीड़े खा रहे हैं ।
छिपकली बन रात को जो, मस्त कीड़े खा रहे हैं ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवन के बुझे हुए चिराग़...!!!
जीवन के बुझे हुए चिराग़...!!!
Jyoti Khari
Loading...