Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2023 · 1 min read

क्रोधावेग और प्रेमातिरेक पर सुभाषित / MUSAFIR BAITHA

एक मनुष्य द्वारा क्रोधावेग और प्रेमातिरेक की चपेट में आने के समय व्यक्त की गई भावनाओं में तटस्थ पर्यवेक्षण और निष्कर्ष पाने की संभावना अत्यंत क्षीण होती है।

~ डा. मुसाफ़िर बैठा

Language: Hindi
251 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
*गुरुदेव की है पूर्णिमा, गुरु-ज्ञान आज प्रधान है【 मुक्तक 】*
*गुरुदेव की है पूर्णिमा, गुरु-ज्ञान आज प्रधान है【 मुक्तक 】*
Ravi Prakash
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
Sanjay ' शून्य'
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
जय जय नंदलाल की ..जय जय लड्डू गोपाल की
जय जय नंदलाल की ..जय जय लड्डू गोपाल की"
Harminder Kaur
मेरे वतन मेरे वतन
मेरे वतन मेरे वतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रिश्ते की नियत
रिश्ते की नियत
पूर्वार्थ
शिव वन्दना
शिव वन्दना
Namita Gupta
प्रथम गणेशोत्सव
प्रथम गणेशोत्सव
Raju Gajbhiye
लघुकथा-
लघुकथा- "कैंसर" डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
मैं हमेशा अकेली इसलिए रह  जाती हूँ
मैं हमेशा अकेली इसलिए रह जाती हूँ
Amrita Srivastava
■ जितनी जल्दी समझ लो उतना बढ़िया।
■ जितनी जल्दी समझ लो उतना बढ़िया।
*Author प्रणय प्रभात*
गिरगिट को भी अब मात
गिरगिट को भी अब मात
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
Ravikesh Jha
चाहत
चाहत
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
2485.पूर्णिका
2485.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जब दादा जी घर आते थे
जब दादा जी घर आते थे
VINOD CHAUHAN
पूछो ज़रा दिल से
पूछो ज़रा दिल से
Surinder blackpen
मित्र
मित्र
लक्ष्मी सिंह
रेल यात्रा संस्मरण
रेल यात्रा संस्मरण
Prakash Chandra
जल खारा सागर का
जल खारा सागर का
Dr Nisha nandini Bhartiya
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं विवेक शून्य हूँ
मैं विवेक शून्य हूँ
संजय कुमार संजू
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
💜💠💠💠💜💠💠💠💜
💜💠💠💠💜💠💠💠💜
Manoj Kushwaha PS
राखी
राखी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जलती बाती प्रेम की,
जलती बाती प्रेम की,
sushil sarna
"ईश्वर की गति"
Ashokatv
जीवन अगर आसान नहीं
जीवन अगर आसान नहीं
Dr.Rashmi Mishra
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
Dr Manju Saini
प्रेम हैं अनन्त उनमें
प्रेम हैं अनन्त उनमें
The_dk_poetry
Loading...