Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2023 · 1 min read

सुबह का भूला

सुबह का भूला

“मैंने थोड़ी-सी शराब क्या पी ली, आप लोगों ने तो पूरा आसमान ही सिर पर उठा लिया। आप लोगों को क्या लगता है कि मैं दिन भर खाली-पीली घूमता रहता हूँ। बैलों की तरह हाथ ठेला खींच कर जैसे तैसे गृहस्थी की गाड़ी चला रहा हूँ। तुम लोगों का क्या है, दिन भर घर में बैठे रहते हो। कभी खुद काम कर के देखो, तो समझ में आए कि ये शराब मेरे लिए क्यों जरूरी है।” अधेड़ रामा अपनी माँ और पत्नी से बोला।
“ठीक है रामा। अब तुम घर में रहना। हम सास-बहू ही तुम्हारा हाथ ठेला खींचकर गृहस्थी चलाएँगी।” तंग आकर उसकी माँ ने कहा।
और सचमुच सास-बहू ने रामा का हाथ ठेला खींचना शुरू कर दिया।
अपनी सत्तर वर्षीया बूढ़ी माँ और अधेड़ उम्र की पत्नी को हाथ ठेला खींचते देख कर रामा का सारा नशा काफूर हो गया। उसकी आँखों के सामने बचपन से लेकर अब तक की माँ और पत्नी से जुड़ी घटनाएँ घूमने लगीं।
वह दौड़कर अपनी माँ के पास पहुँचा। उनके पैरों में गिरकर बोला, “माँ मुझे माफ कर दो। मैं कसम खाकर कहता हूँ कि अब कभी शराब को हाथ नहीं लगाऊँगा।”
माँ ने बेटे को सीने से लगा लिया। बोलीं, “सुबह का भूला अगर शाम को लौट आए, तो उसे भूला नहीं कहते।”
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

78 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
Taj Mohammad
प्रियवर
प्रियवर
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
2884.*पूर्णिका*
2884.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जाने कैसे आँख की,
जाने कैसे आँख की,
sushil sarna
मन डूब गया
मन डूब गया
Kshma Urmila
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Dr.Priya Soni Khare
*** रेत समंदर के....!!! ***
*** रेत समंदर के....!!! ***
VEDANTA PATEL
दोस्ती
दोस्ती
Shashi Dhar Kumar
आहाँ अपन किछु कहैत रहू ,आहाँ अपन किछु लिखइत रहू !
आहाँ अपन किछु कहैत रहू ,आहाँ अपन किछु लिखइत रहू !
DrLakshman Jha Parimal
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
Paras Nath Jha
बट विपट पीपल की छांव ??
बट विपट पीपल की छांव ??
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
यदि हर कोई आपसे खुश है,
यदि हर कोई आपसे खुश है,
नेताम आर सी
धूल से ही उत्सव हैं,
धूल से ही उत्सव हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सर्वनाम
सर्वनाम
Neelam Sharma
दिल का भी क्या कसूर है
दिल का भी क्या कसूर है
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"दुर्भाग्य"
Dr. Kishan tandon kranti
जय श्री राम
जय श्री राम
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
देश की हालात
देश की हालात
Dr. Man Mohan Krishna
कोशिशें हमने करके देखी हैं
कोशिशें हमने करके देखी हैं
Dr fauzia Naseem shad
ना मानी हार
ना मानी हार
Dr. Meenakshi Sharma
💐प्रेम कौतुक-418💐
💐प्रेम कौतुक-418💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*मिले हमें गुरुदेव खुशी का, स्वर्णिम दिन कहलाया 【हिंदी गजल/ग
*मिले हमें गुरुदेव खुशी का, स्वर्णिम दिन कहलाया 【हिंदी गजल/ग
Ravi Prakash
मैं हर चीज अच्छी बुरी लिख रहा हूॅं।
मैं हर चीज अच्छी बुरी लिख रहा हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
🙅महा-राष्ट्रवाद🙅
🙅महा-राष्ट्रवाद🙅
*Author प्रणय प्रभात*
* रंग गुलाल अबीर *
* रंग गुलाल अबीर *
surenderpal vaidya
ना हो अपनी धरती बेवा।
ना हो अपनी धरती बेवा।
Ashok Sharma
उत्तंग पर्वत , गहरा सागर , समतल मैदान , टेढ़ी-मेढ़ी नदियांँ , घने वन ।
उत्तंग पर्वत , गहरा सागर , समतल मैदान , टेढ़ी-मेढ़ी नदियांँ , घने वन ।
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
गुनहगार तू भी है...
गुनहगार तू भी है...
मनोज कर्ण
डॉ अरुण कुमार शास्त्री ( पूर्व निदेशक – आयुष ) दिल्ली
डॉ अरुण कुमार शास्त्री ( पूर्व निदेशक – आयुष ) दिल्ली
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पलकों ने बहुत समझाया पर ये आंख नहीं मानी।
पलकों ने बहुत समझाया पर ये आंख नहीं मानी।
Rj Anand Prajapati
Loading...