Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2017 · 1 min read

~~ सुन्दरता..तेरे दीवाने…~~

सुन्दरता
तुझ को ही क्यूं
सब प्यार करते हैं
तेरे लिए जाने
कितने ही रोज मरते हैं
तू बिक रही सरे राह
बाजारों और गलियारों में
तेरे पीछे न जाने
कितने क़त्ल रोज हुआ करते हैं!!

हुस्न की देविआं
तीर दिलों पर छोड़ कर
छुप जाया करती हैं
नगनता को आज
ऐसे हो लोग
आहे भर भर के
देखा करते हैं !!

जीना मुहाल् किया
दुनिया में , आँख अब
खुद शर्म सार हो रही
तेरे दीवाने तुझ को
पाने को
न जाने कितने
बर्बाद हुआ करते हैं !!

पीते हैं और खुद
को बर्बादी की राह पर
ले जाने में
धन बर्बाद करते हैं
तेरा क्या गया,
कुछ भी तो नहीं, वो
खुद अपने परिवार
की बर्बादी का
काल बना करते हैं

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 721 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
टिक टिक टिक
टिक टिक टिक
Ghanshyam Poddar
"अहसास मरता नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
यदि तुमने किसी लड़की से कहीं ज्यादा अपने लक्ष्य से प्यार किय
यदि तुमने किसी लड़की से कहीं ज्यादा अपने लक्ष्य से प्यार किय
Rj Anand Prajapati
वफा माँगी थी
वफा माँगी थी
Swami Ganganiya
2891.*पूर्णिका*
2891.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
....????
....????
शेखर सिंह
इंडिया दिल में बैठ चुका है दूर नहीं कर पाओगे।
इंडिया दिल में बैठ चुका है दूर नहीं कर पाओगे।
सत्य कुमार प्रेमी
हृदय मे भरा अंधेरा घनघोर है,
हृदय मे भरा अंधेरा घनघोर है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
लाख़ ज़ख्म हो दिल में,
लाख़ ज़ख्म हो दिल में,
पूर्वार्थ
कहाँ जाऊँ....?
कहाँ जाऊँ....?
Kanchan Khanna
चूड़ियाँ
चूड़ियाँ
लक्ष्मी सिंह
लेकर तुम्हारी तस्वीर साथ चलता हूँ
लेकर तुम्हारी तस्वीर साथ चलता हूँ
VINOD CHAUHAN
जागे जग में लोक संवेदना
जागे जग में लोक संवेदना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कर गमलो से शोभित जिसका
कर गमलो से शोभित जिसका
प्रेमदास वसु सुरेखा
#करना है, मतदान हमको#
#करना है, मतदान हमको#
Dushyant Kumar
अगर कोई लक्ष्य पाना चाहते हो तो
अगर कोई लक्ष्य पाना चाहते हो तो
Sonam Puneet Dubey
बस जाओ मेरे मन में
बस जाओ मेरे मन में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
आत्मबल
आत्मबल
Punam Pande
मोहब्बत
मोहब्बत
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
वृक्षों के उपकार....
वृक्षों के उपकार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
ज़रूरत
ज़रूरत
सतीश तिवारी 'सरस'
तितलियां
तितलियां
Adha Deshwal
गले से लगा ले मुझे प्यार से
गले से लगा ले मुझे प्यार से
Basant Bhagawan Roy
सूरज
सूरज
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
हर मानव खाली हाथ ही यहाँ आता है,
हर मानव खाली हाथ ही यहाँ आता है,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
यह तुम्हारी नफरत ही दुश्मन है तुम्हारी
यह तुम्हारी नफरत ही दुश्मन है तुम्हारी
gurudeenverma198
देख कर उनको
देख कर उनको
हिमांशु Kulshrestha
नर नारी संवाद
नर नारी संवाद
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ सरस्वती वंदना ■
■ सरस्वती वंदना ■
*प्रणय प्रभात*
Loading...