Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2023 · 1 min read

सुनो बुद्ध की देशना, गुनो कथ्य का सार।

सुनो बुद्ध की देशना, गुनो कथ्य का सार।
अनथक पथ बढ़ते चलो , पा जाओगे पार।।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद

Language: Hindi
1 Like · 371 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Sushila joshi
शिवरात्रि
शिवरात्रि
ऋचा पाठक पंत
कौन कहता है छोटी चीजों का महत्व नहीं होता है।
कौन कहता है छोटी चीजों का महत्व नहीं होता है।
Yogendra Chaturwedi
हिसाब-किताब / मुसाफ़िर बैठा
हिसाब-किताब / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आ अब लौट चलें.....!
आ अब लौट चलें.....!
VEDANTA PATEL
समझौते की कुछ सूरत देखो
समझौते की कुछ सूरत देखो
sushil yadav
2457.पूर्णिका
2457.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हां मैंने ख़ुद से दोस्ती की है
हां मैंने ख़ुद से दोस्ती की है
Sonam Puneet Dubey
*वह बिटिया थी*
*वह बिटिया थी*
Mukta Rashmi
आपकी तस्वीर ( 7 of 25 )
आपकी तस्वीर ( 7 of 25 )
Kshma Urmila
मेरा तकिया
मेरा तकिया
Madhu Shah
अधिकांश होते हैं गुमराह
अधिकांश होते हैं गुमराह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सौगंध
सौगंध
Shriyansh Gupta
उठो द्रोपदी....!!!
उठो द्रोपदी....!!!
Neelam Sharma
मैंने उनको थोड़ी सी खुशी क्या दी...
मैंने उनको थोड़ी सी खुशी क्या दी...
ruby kumari
पड़े विनय को सीखना,
पड़े विनय को सीखना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
.... कुछ....
.... कुछ....
Naushaba Suriya
थोड़ा नमक छिड़का
थोड़ा नमक छिड़का
Surinder blackpen
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
surenderpal vaidya
ये  कहानी  अधूरी   ही  रह  जायेगी
ये कहानी अधूरी ही रह जायेगी
Yogini kajol Pathak
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
ONR WAY LOVE
ONR WAY LOVE
Sneha Deepti Singh
वृक्ष बन जाओगे
वृक्ष बन जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
।। कसौटि ।।
।। कसौटि ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
नजरे मिली धड़कता दिल
नजरे मिली धड़कता दिल
Khaimsingh Saini
If I were the ocean,
If I were the ocean,
पूर्वार्थ
#दिवस_विशेष-
#दिवस_विशेष-
*प्रणय प्रभात*
समरसता की दृष्टि रखिए
समरसता की दृष्टि रखिए
Dinesh Kumar Gangwar
सुविचार
सुविचार
Neeraj Agarwal
Loading...