Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jan 2024 · 1 min read

सुनो जीतू,

सुनो जीतू,
आज मेरी पंक्तियाँ जवान हो गई है
कुछ थी मेरी जो वीरान हो गई है
अब मुझे भी इनके ब्याह की चिंता हो रही
पिता हूँ न इनका, मायुसी होना जाहिर है
ब्याह करना है, तो कर्जा भी लेना है साहुकार से
जमीन भी अल्प है मेरे अक्षरों की
क्या कीमत है मेरे विचारों की
अल्फ़ाज़ लेंगे मुझे दहेज देना है
मैं ठहरा कवि प्रिय,कविता ही मेरा गहना है
सच कहूं तो मेरी पंक्तियाँ अब आवाम हो गई
मेरी नन्हीं-नन्हीं पंक्तियाँ आज जवान हो गई

कवि ~ सरकार

91 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
“देवभूमि क दिव्य दर्शन” मैथिली ( यात्रा -संस्मरण )
“देवभूमि क दिव्य दर्शन” मैथिली ( यात्रा -संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
सहमी -सहमी सी है नज़र तो नहीं
सहमी -सहमी सी है नज़र तो नहीं
Shweta Soni
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
-अपनी कैसे चलातें
-अपनी कैसे चलातें
Seema gupta,Alwar
सप्तपदी
सप्तपदी
Arti Bhadauria
💐अज्ञात के प्रति-147💐
💐अज्ञात के प्रति-147💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
धर्म अर्थ कम मोक्ष
धर्म अर्थ कम मोक्ष
Dr.Pratibha Prakash
वह बचपन के दिन
वह बचपन के दिन
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
-- तभी तक याद करते हैं --
-- तभी तक याद करते हैं --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मोह मोह के चाव में
मोह मोह के चाव में
Harminder Kaur
होते हम अजनबी तो,ऐसा तो नहीं होता
होते हम अजनबी तो,ऐसा तो नहीं होता
gurudeenverma198
जाते-जाते भी नहीं, जाता फागुन माह
जाते-जाते भी नहीं, जाता फागुन माह
Ravi Prakash
2356.पूर्णिका
2356.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सच और झूँठ
सच और झूँठ
विजय कुमार अग्रवाल
चीरता रहा
चीरता रहा
sushil sarna
* चाहतों में *
* चाहतों में *
surenderpal vaidya
कुछ पाने के लिए
कुछ पाने के लिए
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दुख निवारण ब्रह्म सरोवर और हम
दुख निवारण ब्रह्म सरोवर और हम
SATPAL CHAUHAN
हैवानियत
हैवानियत
Shekhar Chandra Mitra
चिल्लाने के लिए ताकत की जरूरत नहीं पड़ती,
चिल्लाने के लिए ताकत की जरूरत नहीं पड़ती,
शेखर सिंह
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sakshi Tripathi
देर हो जाती है अकसर
देर हो जाती है अकसर
Surinder blackpen
सब स्वीकार है
सब स्वीकार है
Saraswati Bajpai
इज़हार कर ले एक बार
इज़हार कर ले एक बार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
■ एक मार्मिक तस्वीर पर मेरा एक तात्कालिक शेर :--
■ एक मार्मिक तस्वीर पर मेरा एक तात्कालिक शेर :--
*Author प्रणय प्रभात*
गुज़रते वक्त ने
गुज़रते वक्त ने
Dr fauzia Naseem shad
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
धरा और इसमें हरियाली
धरा और इसमें हरियाली
Buddha Prakash
कितने इश्क़❤️🇮🇳 लिख गये, कितने इश्क़ सिखा गये,
कितने इश्क़❤️🇮🇳 लिख गये, कितने इश्क़ सिखा गये,
Shakil Alam
"फितरत"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...