Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-472💐

सुनो,मेरे इश्क़ ने ज़माने की सैर कर ली है,
सिवाए उनके किसने मेरी ख़बर ली ही है,
रंजिश नहीं है,ये सिफ़त लिए हैं मेरे याराँ,
सभी दूरी इक नज़र से ही तय कर ली हैं।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
Tag: Hindi Quotes, Quote Writer
12 Views
You may also like:
इश्क़ में रहम अब मुमकिन नहीं
इश्क़ में रहम अब मुमकिन नहीं
Anjani Kumar
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
दिशा
दिशा
Saraswati Bajpai
शख्सियत - राजनीति में विरले ही मिलते हैं
शख्सियत - राजनीति में विरले ही मिलते हैं "रमेश चन्द्र...
Deepak Kumar Tyagi
*नमन : वीर हनुमन्थप्पा तथा अन्य (गीत)*
*नमन : वीर हनुमन्थप्पा तथा अन्य (गीत)*
Ravi Prakash
जो बात तुझ में है, तेरी तस्वीर में कहां
जो बात तुझ में है, तेरी तस्वीर में कहां
Ram Krishan Rastogi
मन की बात
मन की बात
Shekhar Chandra Mitra
बाहर जो दिखती है, वो झूठी शान होती है,
बाहर जो दिखती है, वो झूठी शान होती है,
लोकनाथ ताण्डेय ''मधुर''
"अन्तर"
Dr. Kishan tandon kranti
सादगी - डी के निवातिया
सादगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
कमर दर्द, पीठ दर्द
कमर दर्द, पीठ दर्द
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
246.
246. "हमराही मेरे"
MSW Sunil SainiCENA
ठीक है अब मैं भी
ठीक है अब मैं भी
gurudeenverma198
जिस पल में तुम ना हो।
जिस पल में तुम ना हो।
Taj Mohammad
“ कितने तुम अब बौने बनोगे ?”
“ कितने तुम अब बौने बनोगे ?”
DrLakshman Jha Parimal
धूम मची चहुँ ओर है, होली का हुड़दंग ।
धूम मची चहुँ ओर है, होली का हुड़दंग ।
Arvind trivedi
बाल कहानी- गणतंत्र दिवस
बाल कहानी- गणतंत्र दिवस
SHAMA PARVEEN
अल्फाज़
अल्फाज़
Dr.S.P. Gautam
होली
होली
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
💐क: अपि जन्म: ....💐
💐क: अपि जन्म: ....💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
चरित्र
चरित्र
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
रंग में डूबने से भी नहीं चढ़ा रंग,
रंग में डूबने से भी नहीं चढ़ा रंग,
Buddha Prakash
साधारण दिखो!
साधारण दिखो!
Suraj kushwaha
कूड़े के ढेर में भी
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
दार्जलिंग का एक गाँव सुकना
दार्जलिंग का एक गाँव सुकना
Satish Srijan
भोजपुरी बिरह गीत
भोजपुरी बिरह गीत
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
मेरे मन का सीजन थोड़े बदला है
मेरे मन का सीजन थोड़े बदला है
Shiva Awasthi
कुछ पंक्तियाँ
कुछ पंक्तियाँ
सोनम राय
***
*** " एक आवाज......!!! " ***
VEDANTA PATEL
Loading...