Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2022 · 1 min read

बढ़ेगा फिर तो तेरा क़द

बढ़ेगा फिर तो तेरा क़द
सुना दे शेर जो इक-अद

है दिल क्या चीज़ तू सब ले
दे दूँ तुझे आज मैं मनसद

दिवाने जां लुटा देंगे
महब्बत की न कोई हद

जहां रबका सभी के लिए
न तय कर तू कोई सरहद

सभी को प्रेम ही देना
बड़ा ही नेक है मक़सद

•••

2 Likes · 1 Comment · 132 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
अपने आसपास
अपने आसपास "काम करने" वालों की कद्र करना सीखें...
Radhakishan R. Mundhra
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
कवि रमेशराज
मेरे पास, तेरे हर सवाल का जवाब है
मेरे पास, तेरे हर सवाल का जवाब है
Bhupendra Rawat
जय श्री राम
जय श्री राम
Er.Navaneet R Shandily
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"तू है तो"
Dr. Kishan tandon kranti
*****हॄदय में राम*****
*****हॄदय में राम*****
Kavita Chouhan
कागज ए ज़िंदगी............एक सोच
कागज ए ज़िंदगी............एक सोच
Neeraj Agarwal
क्यों नहीं बदल सका मैं, यह शौक अपना
क्यों नहीं बदल सका मैं, यह शौक अपना
gurudeenverma198
चांद निकला है तुम्हे देखने के लिए
चांद निकला है तुम्हे देखने के लिए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मेरी गोद में सो जाओ
मेरी गोद में सो जाओ
Buddha Prakash
!..............!
!..............!
शेखर सिंह
💐कुछ तराने नए सुनाना कभी💐
💐कुछ तराने नए सुनाना कभी💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
साधना से सिद्धि.....
साधना से सिद्धि.....
Santosh Soni
3196.*पूर्णिका*
3196.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अस्त हुआ रवि वीत राग का /
अस्त हुआ रवि वीत राग का /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*धन्य अयोध्या जहॉं पधारे, पुरुषोत्तम भगवान हैं (हिंदी गजल)*
*धन्य अयोध्या जहॉं पधारे, पुरुषोत्तम भगवान हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मेरी मुस्कान भी, अब नागवार है लगे उनको,
मेरी मुस्कान भी, अब नागवार है लगे उनको,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अनमोल वचन
अनमोल वचन
Jitendra Chhonkar
तज द्वेष
तज द्वेष
Neelam Sharma
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
कहां  गए  वे   खद्दर  धारी  आंसू   सदा   बहाने  वाले।
कहां गए वे खद्दर धारी आंसू सदा बहाने वाले।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
युवा दिवस
युवा दिवस
Tushar Jagawat
माँ तो पावन प्रीति है,
माँ तो पावन प्रीति है,
अभिनव अदम्य
बाल गीत
बाल गीत "लंबू चाचा आये हैं"
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
बीज और विचित्रताओं पर कुछ बात
बीज और विचित्रताओं पर कुछ बात
Dr MusafiR BaithA
🙅कमिंग सून🙅
🙅कमिंग सून🙅
*Author प्रणय प्रभात*
श्री श्याम भजन
श्री श्याम भजन
Khaimsingh Saini
ज़िंदगी तेरी किताब में
ज़िंदगी तेरी किताब में
Dr fauzia Naseem shad
क्या दिखेगा,
क्या दिखेगा,
pravin sharma
Loading...