Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2024 · 1 min read

सुनले पुकार मैया

आया हूँ, पहलीवार तेरे दर
मुझपे तू माँ, एक बार दया कर।
सूनले पुकार मैया ।।

जनम से मैं दुःख में रहा, नाम तेरा जपते सदा
मैया, तेरे द्वार मैं आया जग से हार – हार ।
सुनले पुकार मैया।।

जानु ना मैं भाग्य में क्या, अब तो करो मूझपे दया
मैया, मेरी देख ले क्या है हाल – हाल।
सुनले पुकार मैया।।

अर्पण है जीवन मेरा, जो भी है सब है तेरा
मैया, मुझे चाहिए तेरा प्यार – प्यार।
सुनले पुकार मैया।।

✍️ बसंत भगवान राय
(धुन: आवाज मैं ना दूंगा)

Language: Hindi
Tag: गीत
48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Basant Bhagawan Roy
View all
You may also like:
गौरेया (ताटंक छन्द)
गौरेया (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
*मतदान*
*मतदान*
Shashi kala vyas
वक्त से लड़कर अपनी तकदीर संवार रहा हूँ।
वक्त से लड़कर अपनी तकदीर संवार रहा हूँ।
सिद्धार्थ गोरखपुरी
3379⚘ *पूर्णिका* ⚘
3379⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
🕊️एक परिंदा उड़ चला....!
🕊️एक परिंदा उड़ चला....!
Srishty Bansal
राष्ट्र निर्माण के नौ दोहे
राष्ट्र निर्माण के नौ दोहे
Ravi Prakash
मैं तो महज तकदीर हूँ
मैं तो महज तकदीर हूँ
VINOD CHAUHAN
उस
उस"कृष्ण" को आवाज देने की ईक्षा होती है
Atul "Krishn"
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
Dr Nisha nandini Bhartiya
संवेदनाएं
संवेदनाएं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं तुम्हें यूँ ही
मैं तुम्हें यूँ ही
हिमांशु Kulshrestha
प्रभु नृसिंह जी
प्रभु नृसिंह जी
Anil chobisa
एक अजीब सी आग लगी है जिंदगी में,
एक अजीब सी आग लगी है जिंदगी में,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
#सन्देश...
#सन्देश...
*Author प्रणय प्रभात*
कभी पथभ्रमित न हो,पथर्भिष्टी को देखकर।
कभी पथभ्रमित न हो,पथर्भिष्टी को देखकर।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
Sakhawat Jisan
हाथ में फूल गुलाबों के हीं सच्चे लगते हैं
हाथ में फूल गुलाबों के हीं सच्चे लगते हैं
Shweta Soni
सीख लिया मैनै
सीख लिया मैनै
Seema gupta,Alwar
लोककवि रामचरन गुप्त के रसिया और भजन
लोककवि रामचरन गुप्त के रसिया और भजन
कवि रमेशराज
मैं छोटी नन्हीं सी गुड़िया ।
मैं छोटी नन्हीं सी गुड़िया ।
लक्ष्मी सिंह
आख़िरी इश्क़, प्यालों से करने दे साकी-
आख़िरी इश्क़, प्यालों से करने दे साकी-
Shreedhar
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
Rajesh Kumar Arjun
योग महा विज्ञान है
योग महा विज्ञान है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
संभव की हदें जानने के लिए
संभव की हदें जानने के लिए
Dheerja Sharma
माता- पिता
माता- पिता
Dr Archana Gupta
"दोस्ती"
Dr. Kishan tandon kranti
धरती मेरी स्वर्ग
धरती मेरी स्वर्ग
Sandeep Pande
आए गए महान
आए गए महान
Dr MusafiR BaithA
इंसान बनने के लिए
इंसान बनने के लिए
Mamta Singh Devaa
हमने तो सोचा था कि
हमने तो सोचा था कि
gurudeenverma198
Loading...