Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2023 · 1 min read

सी डी इस विपिन रावत

अगुवा बन कर तुम चले सदा,
हिम्मत हिकमत से साजा थे।
सरदार थे तुम सामन्त थे तुम,
तुम ही सेना के राजा थे।
रावत तेरा अर्थ बड़ा सा था।
हर कदम जीत पर अड़ा सा था।
अनहोनी हाथों छले गए।
रावत क्यों विपिन से चले गए।

जब तू सरहद पर जाता था,
तेरे नाम से अरि थर्राता था।
कहते वीरों को बताऊंगा,
मैं कभी पहली न चलाऊंगा।
पर उधर से यदि आयी कोई,
फिर गिनती नहीं कराऊंगा।
यही सीख में हम सब ढले गए,
रावत क्यों विपिन से चले गए।

असामयिक जाना खला बहुत,
आंखों से आंसू मला बहुत।
हे वीरगती पाने वाले,
फिर लौट के न आने वाले।
श्रद्धांजलि तुम्हें समर्पित है,
अंतिम अभिवादन अर्पित है।
सेनापति दिल से खले गए,
रावत क्यों विपिन से चले गए।

सतीश सृजन, लखनऊ।

Language: Hindi
1 Like · 182 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
I love you
I love you
Otteri Selvakumar
"लोकगीत" (छाई देसवा पे महंगाई ऐसी समया आई राम)
Slok maurya "umang"
"Looking up at the stars, I know quite well
पूर्वार्थ
'हक़' और हाकिम
'हक़' और हाकिम
आनन्द मिश्र
23/164.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/164.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्राण दंडक छंद
प्राण दंडक छंद
Sushila joshi
लड्डु शादी का खायके, अनिल कैसे खुशी बनाये।
लड्डु शादी का खायके, अनिल कैसे खुशी बनाये।
Anil chobisa
ना मुमकिन
ना मुमकिन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पंचवर्षीय योजनाएँ
पंचवर्षीय योजनाएँ
Dr. Kishan tandon kranti
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
Neelam Sharma
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ओसमणी साहू 'ओश'
मेरे सनम
मेरे सनम
Shiv yadav
अमृता प्रीतम
अमृता प्रीतम
Dr fauzia Naseem shad
……..नाच उठी एकाकी काया
……..नाच उठी एकाकी काया
Rekha Drolia
याद अमानत बन गयी, लफ्ज़  हुए  लाचार ।
याद अमानत बन गयी, लफ्ज़ हुए लाचार ।
sushil sarna
लक्ष्य
लक्ष्य
लक्ष्मी सिंह
काश.......
काश.......
Faiza Tasleem
तेरे दिदार
तेरे दिदार
SHAMA PARVEEN
अवधी लोकगीत
अवधी लोकगीत
प्रीतम श्रावस्तवी
जाओ तेइस अब है, आना चौबिस को।
जाओ तेइस अब है, आना चौबिस को।
सत्य कुमार प्रेमी
जेल जाने का संकट टले,
जेल जाने का संकट टले,
*प्रणय प्रभात*
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कहती जो तू प्यार से
कहती जो तू प्यार से
The_dk_poetry
संत सनातनी बनना है तो
संत सनातनी बनना है तो
Satyaveer vaishnav
*शक्ति दो भवानी यह वीरता का भाव बढ़े (घनाक्षरी: सिंह विलोकित
*शक्ति दो भवानी यह वीरता का भाव बढ़े (घनाक्षरी: सिंह विलोकित
Ravi Prakash
होली के रंग
होली के रंग
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
मैं मजदूर हूं
मैं मजदूर हूं
हरवंश हृदय
*कोई किसी को न तो सुख देने वाला है और न ही दुःख देने वाला है
*कोई किसी को न तो सुख देने वाला है और न ही दुःख देने वाला है
Shashi kala vyas
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ବିଶ୍ୱାସରେ ବିଷ
ବିଶ୍ୱାସରେ ବିଷ
Bidyadhar Mantry
Loading...