Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2023 · 1 min read

सीरत

सीरत

सूरत एक दो दिन के लिए ,
सीरत की जरूरत जिंदगी भर के लिए।
सकले तो बहुत मिल जाएंगी,
सुंदर से भी सुंदर,
मगर हर दिल में न मिलेगा नी स्वार्थ प्रेम का समंदर।

1 Like · 522 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
Ranjeet kumar patre
वो देखो ख़त्म हुई चिड़ियों की जमायत देखो हंस जा जाके कौओं से
वो देखो ख़त्म हुई चिड़ियों की जमायत देखो हंस जा जाके कौओं से
Neelam Sharma
तुम भी 2000 के नोट की तरह निकले,
तुम भी 2000 के नोट की तरह निकले,
Vishal babu (vishu)
व्यक्ति को ह्रदय का अच्छा होना जरूरी है
व्यक्ति को ह्रदय का अच्छा होना जरूरी है
शेखर सिंह
*साबुन से धोकर यद्यपि तुम, मुखड़े को चमकाओगे (हिंदी गजल)*
*साबुन से धोकर यद्यपि तुम, मुखड़े को चमकाओगे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
ख़ुद को ख़ोकर
ख़ुद को ख़ोकर
Dr fauzia Naseem shad
मधुर व्यवहार
मधुर व्यवहार
Paras Nath Jha
I am Me - Redefined
I am Me - Redefined
Dhriti Mishra
कुप्रथाएं.......एक सच
कुप्रथाएं.......एक सच
Neeraj Agarwal
Education
Education
Mangilal 713
जीत रही है जंग शांति की हार हो रही।
जीत रही है जंग शांति की हार हो रही।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"तुम्हारे शिकवों का अंत चाहता हूँ
गुमनाम 'बाबा'
*मैं, तुम और हम*
*मैं, तुम और हम*
sudhir kumar
माज़ी में जनाब ग़ालिब नज़र आएगा
माज़ी में जनाब ग़ालिब नज़र आएगा
Atul "Krishn"
★ शुभ-वंदन ★
★ शुभ-वंदन ★
*प्रणय प्रभात*
Teacher
Teacher
Rajan Sharma
योग का गणित और वर्तमान समस्याओं का निदान
योग का गणित और वर्तमान समस्याओं का निदान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
देवा श्री गणेशा
देवा श्री गणेशा
Mukesh Kumar Sonkar
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
"आय और उम्र"
Dr. Kishan tandon kranti
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
बुंदेली दोहा-
बुंदेली दोहा- "पैचान" (पहचान) भाग-2
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
Shweta Soni
अपने
अपने
Adha Deshwal
कितना आसान है मां कहलाना,
कितना आसान है मां कहलाना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मोहब्बत जताई गई, इश्क फरमाया गया
मोहब्बत जताई गई, इश्क फरमाया गया
Kumar lalit
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
महेश चन्द्र त्रिपाठी
आ अब लौट चलें.....!
आ अब लौट चलें.....!
VEDANTA PATEL
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
कवि दीपक बवेजा
Loading...