Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2024 · 1 min read

सीमा प्रहरी

सरहद जिसका घर बना, जंग बना त्योहार।
माथे मिट्टी का तिलक,करे शत्रु संहार।।

सरहद पर तैनात है,खोए अपना चैन ।
नींद त्याग कर जागते, सैनिक सारी रैन।।

रहते सरहद पर अडिग, बना देश की ढ़ाल।
देश भक्त सच्चा वही, भारत माँ का लाल।।

सीमा का प्रहरी रहा,बना देश की शान।
जिसका फौलादी जिगर,सीना है चट्टान।।

सीमा पर डट कर खड़े, रहते वीर जवान।
मातृभूमि के वास्ते, हो जाते कुर्बान।।

सरहद पर लड़ते हुए, हो जाते कुर्बान।
युगों-युगों तक हैं अमर, ऐसे वीर-जवान।

सरहद के हर वीर को,माँ देती आशीष।
देश-भक्ति के वास्ते,सदा कटाना शीश।।

गोली खाकर जो खड़े, रहते सीना तान।
बहे देश हित के लिए,उनका लहू महान।।

कफन तिरंगा ओढ़ कर,जान वतन के नाम।
ऐसे वीर शहीद को, शत शत बार प्रणाम।।

-लक्ष्मी सिंह

Language: Hindi
81 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
"बारिश की बूंदें" (Raindrops)
Sidhartha Mishra
23/205. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/205. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"चलना और रुकना"
Dr. Kishan tandon kranti
मौसम का मिजाज़ अलबेला
मौसम का मिजाज़ अलबेला
Buddha Prakash
शिव शंभू भोला भंडारी !
शिव शंभू भोला भंडारी !
Bodhisatva kastooriya
पश्चाताप का खजाना
पश्चाताप का खजाना
अशोक कुमार ढोरिया
22)”शुभ नवरात्रि”
22)”शुभ नवरात्रि”
Sapna Arora
میں ہوں تخلیق اپنے ہی رب کی ۔۔۔۔۔۔۔۔۔
میں ہوں تخلیق اپنے ہی رب کی ۔۔۔۔۔۔۔۔۔
Dr fauzia Naseem shad
*डंका बजता योग का, दुनिया हुई निहाल (कुंडलिया)*
*डंका बजता योग का, दुनिया हुई निहाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ईमानदारी, दृढ़ इच्छाशक्ति
ईमानदारी, दृढ़ इच्छाशक्ति
Dr.Rashmi Mishra
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
ये जुल्म नहीं तू सहनकर
ये जुल्म नहीं तू सहनकर
gurudeenverma198
चंद्रयान-3
चंद्रयान-3
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ब्रांड 'चमार' मचा रहा, चारों तरफ़ धमाल
ब्रांड 'चमार' मचा रहा, चारों तरफ़ धमाल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
विकास शुक्ल
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Kumud Srivastava
शेर ग़ज़ल
शेर ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मूक संवेदना...
मूक संवेदना...
Neelam Sharma
*देह का दबाव*
*देह का दबाव*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
काबा जाए कि काशी
काबा जाए कि काशी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जल उठी है फिर से आग नफ़रतों की ....
जल उठी है फिर से आग नफ़रतों की ....
shabina. Naaz
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
Neerja Sharma
एक हैसियत
एक हैसियत
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
लिट्टी छोला
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
"चंदा मामा, चंदा मामा"
राकेश चौरसिया
।। सुविचार ।।
।। सुविचार ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
सूरज
सूरज
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
दो का पहाडा़
दो का पहाडा़
Rituraj shivem verma
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें तब बातें प्रतिक्रिया की ह
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें तब बातें प्रतिक्रिया की ह
DrLakshman Jha Parimal
जिंदगी के उतार चढ़ाव में
जिंदगी के उतार चढ़ाव में
Manoj Mahato
Loading...