Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-413💐

सिसकना बुदबुदाना और धड़कने तेज हुईं उनकी,
हे फरिश्तो देखते रहो,साँस कम तो नहीं हुईं उनकी,
ये सब बहुत इत्मीनान से चल रहा है दुनियाँ वालों,
ग़ौर करो मेरी परछाईं क़ल्ब से हटी तो नहीं उनकी।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
184 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खुदा ने तुम्हारी तकदीर बड़ी खूबसूरती से लिखी है,
खुदा ने तुम्हारी तकदीर बड़ी खूबसूरती से लिखी है,
Sukoon
भर गया होगा
भर गया होगा
Dr fauzia Naseem shad
भक्ति की राह
भक्ति की राह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
चाहत है बहुत उनसे कहने में डर लगता हैं
चाहत है बहुत उनसे कहने में डर लगता हैं
Jitendra Chhonkar
शु'आ - ए- उम्मीद
शु'आ - ए- उम्मीद
Shyam Sundar Subramanian
पत्थर - पत्थर सींचते ,
पत्थर - पत्थर सींचते ,
Mahendra Narayan
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
बोलती आँखे....
बोलती आँखे....
Santosh Soni
कागज ए ज़िंदगी............एक सोच
कागज ए ज़िंदगी............एक सोच
Neeraj Agarwal
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Tarun Singh Pawar
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
MEENU SHARMA
बस चार है कंधे
बस चार है कंधे
साहित्य गौरव
*यौगिक क्रिया सा ये कवि दल*
*यौगिक क्रिया सा ये कवि दल*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वक्त की कहानी भारतीय साहित्य में एक अमर कहानी है। यह कहानी प
वक्त की कहानी भारतीय साहित्य में एक अमर कहानी है। यह कहानी प
कार्तिक नितिन शर्मा
*महफिल में तन्हाई*
*महफिल में तन्हाई*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Someday you'll look back and realize that you overcame all o
Someday you'll look back and realize that you overcame all o
पूर्वार्थ
।।जन्मदिन की बधाइयाँ ।।
।।जन्मदिन की बधाइयाँ ।।
Shashi kala vyas
गम्भीर हवाओं का रुख है
गम्भीर हवाओं का रुख है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
52.....रज्ज़ मुसम्मन मतवी मख़बोन
52.....रज्ज़ मुसम्मन मतवी मख़बोन
sushil yadav
■ कल तक-
■ कल तक-
*प्रणय प्रभात*
13) “धूम्रपान-तम्बाकू निषेध”
13) “धूम्रपान-तम्बाकू निषेध”
Sapna Arora
* छलक रहा घट *
* छलक रहा घट *
surenderpal vaidya
23/127.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/127.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक ही नारा एक ही काम,
एक ही नारा एक ही काम,
शेखर सिंह
*आया पूरब से अरुण ,पिघला जैसे स्वर्ण (कुंडलिया)*
*आया पूरब से अरुण ,पिघला जैसे स्वर्ण (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"गुजारिश"
Dr. Kishan tandon kranti
यही तो मजा है
यही तो मजा है
Otteri Selvakumar
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
ईमानदारी की ज़मीन चांद है!
ईमानदारी की ज़मीन चांद है!
Dr MusafiR BaithA
Loading...