Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Dec 2022 · 1 min read

सिद्धार्थ बुद्ध की करुणा

बचपन में सिद्धार्थ गौतम,
वन उपवन में रमे हुए थे,
ध्यान लगाकर बैठे रहते,
संसारिक जीवन अनुभव करते।

तभी अचानक हंस आ गिरा,
घायल अवस्था में समीप,
देखा न गया दर्द उसका,
करुणा से भर गया हृदय तभी।

हंस को बाण लगा हुआ था,
निकाल बाण धोये उसके पीर,
इसी बीच में आया चचेरा भाई,
देवदत्त जिसने मारा था तीर।

अधिकार ज़माने लगा वह अपना,
मेरा शिकार है हक़ मेरा है इसमें,
जल्दी दे दो भाई सिद्धार्थ मुझे हंस,
अच्छा धनुर्धर हुआ हूँ मैं सिद्ध।

सिद्धार्थ बुद्ध के रूप में बोले,
ध्यान रखो भ्राता मेरी एक ही बात,
मारने वाले से होता बचाने वाला बड़ा,
हंस पर मेरी करुणा बरस गई।

शुद्धोधन ने जब ये जाना,
देवदत्त सत्य को नहीं है माना,
निर्णय करने को हंस पर छोड़ा,
सिद्धार्थ और देवदत्त दोनों ने पुकारा।

सुनकर पुकार करुणामयि मृदु आवाज,
सिद्धार्थ के समीप उड़ चला हंस राज,
प्राणो की रक्षा की थी जिसने,
वहीं है बुद्ध के शिक्षा का एक शील।

दया करुणा और अहिंसा करना,
अकारण जीव हत्या से बचना,
शांति मार्ग पर है चलना,
बुद्ध सरण में अब तुम भी बढ़ना।

रचनाकार-
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा
हमीरपुर।

2 Likes · 193 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
कोई किसी से सुंदरता में नहीं कभी कम होता है
कोई किसी से सुंदरता में नहीं कभी कम होता है
Shweta Soni
पिटूनिया
पिटूनिया
अनिल मिश्र
हे मनुज श्रेष्ठ
हे मनुज श्रेष्ठ
Dr.Pratibha Prakash
अनुप्रास अलंकार
अनुप्रास अलंकार
नूरफातिमा खातून नूरी
जरूरी तो नहीं
जरूरी तो नहीं
Madhavi Srivastava
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
सत्य कुमार प्रेमी
💐प्रेम कौतुक-396💐
💐प्रेम कौतुक-396💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
Neelam Sharma
2404.पूर्णिका
2404.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जय श्री गणेशा
जय श्री गणेशा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कहानियां ख़त्म नहीं होंगी
कहानियां ख़त्म नहीं होंगी
Shekhar Chandra Mitra
पति की खुशी ,लंबी उम्र ,स्वास्थ्य के लिए,
पति की खुशी ,लंबी उम्र ,स्वास्थ्य के लिए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
*चौदह अगस्त को मंथन से,निकला सिर्फ हलाहल था
*चौदह अगस्त को मंथन से,निकला सिर्फ हलाहल था
Ravi Prakash
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....,
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....,
कवि दीपक बवेजा
" अलबेले से गाँव है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
प्रेम में राग हो तो
प्रेम में राग हो तो
हिमांशु Kulshrestha
धरती का बेटा गया,
धरती का बेटा गया,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
गणेश चतुर्थी
गणेश चतुर्थी
Surinder blackpen
अन्न का मान
अन्न का मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ख्वाइश है …पार्ट -१
ख्वाइश है …पार्ट -१
Vivek Mishra
फिदरत
फिदरत
Swami Ganganiya
মানুষ হয়ে যাও !
মানুষ হয়ে যাও !
Ahtesham Ahmad
''आशा' के मुक्तक
''आशा' के मुक्तक"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अभिमान
अभिमान
Neeraj Agarwal
आश भरी ऑखें
आश भरी ऑखें
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
*
*"गुरू पूर्णिमा"*
Shashi kala vyas
आचार्य शुक्ल के उच्च काव्य-लक्षण
आचार्य शुक्ल के उच्च काव्य-लक्षण
कवि रमेशराज
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
अनवरत....
अनवरत....
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
..सुप्रभात
..सुप्रभात
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...