Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2023 · 1 min read

सावन मास निराला

सखी बरस रहा रिमझिम सावन, भिगो रहा मन का आंगन
सखी बरस रहा रिमझिम साबन
चंहुओर छाई हरियाली है, मनमोहक छटा निराली है घनघोर घटाएं छाईं हैं, नदियां भरी भराई हैं
पूर हुए सब नद नाले,झीलें भी उफनाईं हैं
धुले धुले हैं शैल शिखर, वन पर्वत रहे रिझाई हैं
छटा बिखेरी पावस ने, मौसम है मनभावन
सखी बरस रहा रिमझिम सावन,
भिगो रहा मन का आंगन
रंग-बिरंगे परिधानों में, सखियां सजी धजी हैं
हाथों में बज रही चूड़ियां, मेहंदी गजब रची है
नखशिख है सोलह सिंगार, बागों में झूला झूले हैं सप्त स्वरों में गूंज रहे, गीत भी नए नवेले हैं
बरस रहीं हैं मस्त फुहारें, झूम रहा जमकर सावन सखी बरस रहा रिमझिम सावन,
भिगो रहा मन का आंगन
सावन में आया सोमवार, भारत का अद्भुत त्यौहार गूंज उठा है बम बम भोले, खुशी से झूम रहा संसार
हर ओर सजे शिवाले हैं, हर हर महादेव के मेले हैं
व्रत उपवास शिव आराधन, रंग बड़े अलबेले हैं
हर हर गंगे अमरनाथ, पूरब से पश्चिम गूंज रहा
बोल बम हरि ऊं की धुन से, धरती अंबर डोल रहा
नर्मदे हर हर, हर हर गंगे ,दशों दिशा में गूंज रहा
हर तीरथ की छटा निराली है, श्रावण मास निराला है रक्षाबंधन का त्यौहार, संसार मनाने बाला है
भाई बहिन के प्रेम का बंधन, दुनिया में अति पावन
सखी बरस रहा रिमझिम सावन, भिगो रहा मन का आंगन

सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
3 Likes · 6 Comments · 303 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
एक देश एक कानून
एक देश एक कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सूने सूने से लगते हैं
सूने सूने से लगते हैं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
दोहा छन्द
दोहा छन्द
नाथ सोनांचली
दूर हमसे वो जब से जाने लगे हैंं ।
दूर हमसे वो जब से जाने लगे हैंं ।
Anil chobisa
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सच्चा मन का मीत वो,
सच्चा मन का मीत वो,
sushil sarna
गांव में छुट्टियां
गांव में छुट्टियां
Manu Vashistha
* दिल बहुत उदास है *
* दिल बहुत उदास है *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आईना
आईना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
'आरक्षितयुग'
'आरक्षितयुग'
पंकज कुमार कर्ण
तो मेरा नाम नही//
तो मेरा नाम नही//
गुप्तरत्न
जय श्री राम।
जय श्री राम।
Anil Mishra Prahari
हिन्दी
हिन्दी
लक्ष्मी सिंह
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
कवि रमेशराज
सजल नयन
सजल नयन
Dr. Meenakshi Sharma
आँखों की दुनिया
आँखों की दुनिया
Sidhartha Mishra
सपने
सपने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
Basant Bhagawan Roy
तितली संग बंधा मन का डोर
तितली संग बंधा मन का डोर
goutam shaw
*रद्दी अगले दिन हुआ, मूल्यवान अखबार (कुंडलिया)*
*रद्दी अगले दिन हुआ, मूल्यवान अखबार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तेरी - मेरी कहानी, ना होगी कभी पुरानी
तेरी - मेरी कहानी, ना होगी कभी पुरानी
The_dk_poetry
2441.पूर्णिका
2441.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
SHAMA PARVEEN
बुंदेली दोहा-बखेड़ा
बुंदेली दोहा-बखेड़ा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जब होंगे हम जुदा तो
जब होंगे हम जुदा तो
gurudeenverma198
जब हम गरीब थे तो दिल अमीर था
जब हम गरीब थे तो दिल अमीर था "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
इश्क में ज़िंदगी
इश्क में ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
श्यामपट
श्यामपट
Dr. Kishan tandon kranti
तेरी चाहत हमारी फितरत
तेरी चाहत हमारी फितरत
Dr. Man Mohan Krishna
Loading...